सरदार की भव्य प्रतिमा के लोकार्पण के साथ बजेगा मोदी का चुनावी बिगुल


Image credit : hotelriverdel.in

अहमदाबाद | दक्षिण गुजरात स्थित नर्मदा बांध के निकट निर्माणाधीन स्टेच्यू ऑफ यूनिटी का लोकार्पण कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोकसभा चुनाव का बिगुल फूकेंगे| गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2010 में सरदार पटेल की विश्व की सबसे विशाल प्रतिमा बनाने का ऐलान किया था, जो आठ साल बाद साकार होने जा रहा है|

देश के पहले उप-प्रधानमंत्री और गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में दक्षिण गुजरात में 182 मीटर लंबी ऊंची उनकी मू‍र्ति बनाई जा रही है| सरदार सरोवर नर्मदा बांध के निकट इस मू‍र्ति को बनाया जा रहा है| इस काम में 2500 से ज्यादा मजदूर लगे हैं| खास बात ये है कि इन मजदूरों में काफी सारे चीन के हैं| चीनी मजदूरों के हाथों से बनी ये मू‍र्ति दुनिया की मौजूदा सबसे बड़ी मू‍र्ति यानी चीन के स्प्रिंग टेंपल बुद्ध को भी पछाड़ देगी| स्प्रिंग टेंपल बुद्ध प्रतिमा की लंबाई 128 मीटर है| 2990 करोड़ की लागत से बनाई जाने वाली इस मू‍र्ति को ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ नाम दिया गया है| बनने के बाद ये दुनिया की सबसे बड़ी होगी. सरदार पटेल की ये प्रतिमा अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर को इस प्रतिमा का लोकार्पण करेंगे| दरअसल, ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है| साल 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद इस प्रोजेक्ट की शुरुआत हुई थी|

पीएम मोदी का मानना है कि ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ की तरह ही पटेल की ये मू‍र्ति सैलानियों के लिए भारत में मुख्य आकर्षण का केंद्र होगा| भाजपा लोकसभा 2019 के लिए चुनाव प्रचार की शुरुआत सरदार पटेल की जयंती 31 अक्टूबर से करने जा रही है| बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के लोकार्पण से चुनावी बिगुल फूकेंगे| दरअसल गुजरात में पिछले तीन साल से आरक्षण की मांग के साथ पाटीदार भाजपा से नाराज चल रहे है| भाजपा के खिलाफ पाटीदारों की नाराजगी का असर गुजरात विधानसभा चुनाव में भी देखने को मिला था| ऐसे में पीएम मोदी का यह दांव एक तीर से दो निशान लगाने जैसा माना जा रहा है|