कच्छ के दौरे के दौरान सीएम रुपाणी ने किये कई वादे और बोले फिर आएंगे मोदी


(Photo Credit : zeebiz.com)

कच्छ के लोग पानी के लिए कई समस्याओं का सामना कर रहे हैं, इसलिए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी आज कच्छ का दौरा कर रहे हैं और उन्होंने पहले कच्छ के लखपत तालुका के लोगों से मुलाकात की।

लखपत में मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने मीडिया से बात करते हुए कहा, “मेरा मानना ​​है कि कच्छ की तासीर अलग है, खमीरवंती लोग हैं। बड़े पैमाने पर भूकंप के समय, कच्छ के लोगों को कोई राहत नहीं मिली, उन्होने साहसपूर्वक सामना किया। पिछले साल अकाल पड़ा। पांच वर्षों में लगभग पोने दोसो औसत संख्या मिलीमीटर बारिश पड़ी है, और 2016 में 400 मिमी से अधिक वर्षा हुई थी। 2018-19 में लखपत तालुका में बारह मिलीलीटर बारिश हुई थी। इसके बावजूद, मुझे खुशी है कि आज मैं विधायक, जिला पंचायत और तालुका पंचायत सदस्यों तथा तालुका के सभी लोगों से मिला। सभी लोग किसी से आहत नहीं हुए हैं और उल्टा सरकार जो कर रही है उसमें  उसका समर्थन कर रहे हैं। यहां से पलायन करने वाले लोग भी मवेशियों के साथ वापस लौट आए हैं।

जल प्रबंधन पर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि नर्मदा का पानी नारायण सरोवर में स्थानीय संसाधन और स्थानीय आरओ प्लांट और टीडीएस कम करके एक लाख लीटर पानी उपलब्ध कराता है। इस तरीके से व्यवस्था की गई है। सभी गाँवों में केवल दो गाँवों में टैंकर हैं, और शेष पाइपलाइन से पानी दिया जाता है। आज, मैंने स्पष्ट सूचना दी है कि कोई शिकायत ना आए, छेवाडा गांव के लोगों की शिकायत न हो इसलिए उन्होंने सिस्टम को निर्देश दिया है कि टैंकरों की संख्या बढ़ाई जाए। पानी की चिंता अभी मौजूद नहीं है।

घांसचारा के बारे में मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने कहा, “घास के लिए भी अब तक लगभग नौ करोड़ की सब्सिडी का भुगतान किया गया है और यहां भी इसका खर्च हुआ है।” घास सब्सिडी नियमित रूप से 35 रुपये प्रति पशु दी जाती है और जो लोग अपने घर पर जानवरों को रखते हैं। उनको घास भी दी जाती है। यानी करीब पोने दो लाख से ज्यादा पशु इस तालुका में हैं और यह सरकार सभी के लिए चिंतित है। 

घास चोरी तथा पानी की चोरी के मामले में कहा कि, यहां शिकायत कम है, लेकिन पूर्ण गुजरात में, हमने निर्देश दिया है कि अगर पीने के पानी या इस्तेमाल करने वाले पानी में चोरी होती है, तो मामले पर सख्ती से कार्रवाई की जानी चाहिए। इसलिए लोगों को इस दौरान पीने के पानी से जुड़ी समस्या नहीं होनी चाहिए। निर्देश सरकार द्वारा बहुत सख्ती से दिया गया है। 

मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने गुजरात के लोगों को आश्वासन देते हुए कहा कि मैं गुजरात के लोगों को विश्वास दिलाता हूं कि 31 जुलाई तक गुजरात में पीने के पानी की कोई समस्या नहीं होगी और बिना चारे के कोई भी जानवर नहीं रहे इसकी सरकार को पूरी चिंता है। 

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि चुनाव परिणामों के बाद, 23 मई को देश भर में दिवाली होगी। पाकिस्तान में मातम होगा। क्योंकि मोदी फिर से इस देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। पूर्ण बहुमत के साथ, एक स्थिर सरकार बहुमत वाली सरकार का नेतृत्व मोदी करेंगे और गुजरात में 26 में से 26 सीटें जीतेंगे।