पूर्व सीएम के पुत्र के मैदान में आने से गरमाई ऊंझा की राजनीति


लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में खेमेबाजी अपने चरम पर पहुंच गई है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को गुजरात की ऊंझा संसदीय सीट पर बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस की पाटीदार विधायक डॉ. आशा पटेल ने कांग्रेस के विधायक के रूप में अपना इस्तीफा देकर भाजपा का भगवा धारण कर लिया है। वहीं अब यह भी सुनने में आ रहा है कि ऊंझा के उप चुनाव में डॉ. आशा पटेल भाजपा की संभावित उम्मीदवार हो सकती हैं।

ऐसे में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जहां कांग्रेस अपना गढ़ बचाने की जद्दोजहद में है, इसी क्रम में संभावना जताई जा रही है कि कांग्रेस के दिग्गज नेता और भूतपूर्व मुख्यमंत्री स्व. चीमनभाई पटेल के सिद्धार्थ पटेल ऊंझा विधानसभा सीट से कांग्रेस की ओर से दावेदारी कर सकते हैं। ऊंझा की सीट स्व. चीमनभाई पटेल की परंपरागत सीट हुआ करती थी और वे इसी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीतकर गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे।

रिपोर्ट के अनुसार सिद्धार्थ पटेल ऊंझा में कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिल रहे हैं। उन्होंने ऊंझा में ऊमिया माता के दर्शन करने के बाद, स्थानीय पाटीदार नेताओं से भी मुलाकात की। ऐसे में उनके द्वारा लोकसंपर्क बढ़ा दिये जाने से यहां राजनीतिक पारा फिर चढ़ गया है।