फसल बीमा के लिए किसानों ने 35 किमी की पद यात्रा करके कलैक्टर को दिया आवेदन


(Photo Credit : indiatoday.in)

एक तरफ गर्मी की तपिश बढ़ती जा रही है। गर्मी के कारण लोग परेशान हैं, दूसरी ओर, गुजरात के कुछ गाँव के लोग पानी की समस्या से परेशान हैं। गुजरात के गाँवों में कितने स्थानों पर ऐसी भी परिस्थिति है कि गाँव के लोगों को पानी लाने के लिए दूर तक चल कर जाना पड़ता है। दूसरी ओर, कुछ किसान पानी की कमी के कारण फसल भी नहीं लगा सकते थे। कमी की परिस्थितियों के बावजूद, किसानों को कोई फसल बीमा नहीं दिया गया है। गुजरात के किसान इस फसल बीमा का भुगतान नहीं करने से नाराज हो रहे हैं। फसल बीमा का भुगतान जल्द से जल्द उपलब्ध कराने के लिए, सुरेंद्रनगर के किसानों ने 35 किलोमीटर की पैदल यात्रा शुरू की और कलेक्टर को एक आवेदन पत्र सौंप कर उन्हें जल्द से जल्द फसल बीमा प्रदान करने की गुज़ारिश की।

एक रिपोर्ट के अनुसार, सुरेंद्रनगर के ध्रांगधा के मेथाण गांव के किसानों ने पानी की कमी के कारण बुवाई नहीं होने के कारण फसल बीमा की मांग की थी। किसानों की बार-बार मांग के बाद भी उनकी फरियाद नहीं स्वीकार किये जाने पर किसान संघ के पदाधिकारी बड़ी संख्या में एकत्रित होकर पदयात्रा करके फसल के मुद्दे पर जिला कलेक्टर को आवेदन देने का निर्णय लिया, जिसके कारण माथन गांव के किसानों ने 35 किलोमीटर पैदल चलकर जिला कलेक्टर को एक आवेदन पत्र देकर जल्द से जल्द फसल बीमा प्रदान करने का प्रस्ताव दिया है, अगर किसानों के प्रस्ताव को जल्द से जल्द स्वीकार नहीं किया जाता है, तो किसान नेताओं द्वारा आने वाले दिनों में उग्र आंदोलन किये जाने की धमकी भी दी गई है।