स्मरणशक्ति को दुरुस्त रखने करें बादाम अखरोट का नियमित सेवन


यदि आप उम्र संबंधी इन मानसिक विकारों जैसे डिमेंशिया से बचना चाहते हैं तो अखरोट और बादाम जैसे नट्स का सेवन शुरू कर दीजिए।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। बढ़ती आयु के साथ मनुष्य के शरीर में कई प्रकार की परेशानियां बढ़ने लगती हैं। स्मरणशक्ति का क्षीण होना भी एक ऐसी समस्या है। उम्र बढ़ने के साथ हम चीजें भूलने लगते है। यदि आप उम्र संबंधी इन मानसिक विकारों जैसे डिमेंशिया से बचना चाहते हैं तो अखरोट और बादाम जैसे नट्स का सेवन शुरू कर दीजिए। दरअसल एक अध्ययन में पाया गया है कि रोजाना दस ग्राम से ज्यादा नट्स खाने से डिमेंशिया जैसा रोगों से छुटकारा पाया जा सकता है। साउथ आस्ट्रेलिया की एक यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार 55 साल की उम्र के 4,822 लोगों पर अध्ययन किया गया के आधार पर ये निष्कर्ष निकाला गया है। अध्ययन में पाया गया है कि नट्स के सेवन और याददाश्त के बीच जुड़ाव है। साउथ यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता मिंग ली ने कहा कि यदि बुजुर्ग लोग रोजाना दस ग्राम से ज्यादा नट्स खाकर अपनी याददाशत को 60 फीसदी तक बेहतर कर सकते हैं।

माना गया है कि याददाश्त बनाए रखने के लिए बादाम काफी उपयोगी होता है। बादाम में मौजूद पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, मैगनीज, कॉपर और राइबोफ्लाविन अल्जाइमर और अन्य मस्तिष्क संबंधी रोगों को दूर करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप रात को 5 बादाम भिगोकर रख दें। सुबह उठकर उनका सेवन करें इससे आपका दिमाग तेज होगा। इसके अलावा अखरोट 3 दर्जन से भी ज्यादा न्यूरॉन ट्रांसमीटर को बनाने में मदद करता है। डिमेंशिया किसी एक बीमारी का नाम नहीं है, बल्कि ये एक लक्षणों के समूह का नाम है, जो मस्तिष्क की हानि से सम्बंधित हैं। डिमेंशिया शब्द ‘डीई’ मतलब विदआउट और ‘मेंशिया’ मतलब माइंड से मिलकर बना है।

अधिकतर लोग डिमेंशिया को भूलने की बीमारी से जानते हैं। याददाश्त की समस्या एकमात्र इसका प्रमुख लक्षण नहीं है। हम आपको बता दें की डिमेंशिया के अनेक गंभीर और चिंताजनक लक्षण होते हैं, जिसका असर डिमेंशिया से पीड़ित लोगों के जीवन के हर पहलु पर होता है। दैनिक कार्यों में भी व्यक्ति को दिक्कतें होती हैं और ये दिक्कतें उम्र के साथ बढ़ती जाती हैं। यह बीमारी 65 वर्ष से अधिक उम्र के दस लोगों में से एक को और 85 साल के चार में से एक को प्रभावित करती है। 65 साल से कम उम्र के लोग भी बीमारी से ग्रस्त हैं जिसे अल्जाइमर की शुरुआत के रूप में जाना जाता है। आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं कि डिमेंशिया क्या है, कितने प्रकार का होता है, इसके क्या लक्षण हैं आदि।

– ईएमएस