सुबह दूध वाली चाय की जगह पीए तुलसी की चाय


Image | esvasa.com

नई दिल्ली (ईएमएस)। ‎अ‎धिकतर लोग तुलसी को उपयोग औषधीय रुप में करते हैं। दरअसल, ये सेहत से जुड़ी कई बीमारियों में रामबाण मानी जाती है। इसमें यूजिनॉल नाम का तत्व पाया जाता है जो शरीर में मौजूद स्ट्रेस हॉर्मोन कॉर्टिसोल के लेवल को कम कर तनाव दूर करने में मदद करता है। लेकिन तुलसी तुलसी की चाय पीने भी फायदेमंद रहती हैं। बता दें ‎कि सुबह-सुबह दूध वाली चाय की जगह तुलसी की चाय ज्यादा फायदेमंद रहती है।

दरअसल, तुलसी के पत्तों में ऐंटिऑक्सिडेंट्स होता है जो शरीर को फ्री-रैडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाकर रखता है। साथ ही तुलसी की चाय सूजन को कम करने और तनाव दूर करने में भी मदद करती है। मगर, तुलसी की चाय में दूध या चीनी नहीं डालनी चा‎हिये। क्योंकि इसके फायदे कम हो जाते हैं। ऐसे में तुलसी की चाय बनाने के लिए सबसे पहले पानी उबालें और फिर उसमें तुलसी की 8 से 10 पत्तियों को धोकर डाल दें और इसमें थोड़ी सी अदरक और इलायची पाउडर भी डाला जा सकते हैं। इसके अलावा इसमें शहद या नींबू का रस डालकर पी सकते हैं।

​नियमित रूप से रोजाना अगर तुलसी की चाय का सेवन किया जाए तो इससे आपका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। लेकिन अगर आप डायबीटीज के मरीज हैं तो तुलसी की चाय में शहद का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा तुलसी की चाय पीने से शरीर में कार्बोहाइड्रेट और फैट का मेटाबॉलिज्म सही रहता है जिससे खून में मौजूद शुगर आपको एनर्जी देने का काम करता है।

तुलसी की चाय में ऐंटि-इन्फ्लेमेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं जो जॉइंट्स में होने वाली सूजन और जलन की समस्या को दूर करने में मदद करती है। बता दें ‎कि तुलसी की चाय को लेकर अब तक हुई कई स्टडीज में यह बात साबित हो चुकी है कि तुलसी की चाय शरीर में मौजूद स्ट्रेस हॉर्मोन कॉर्टिसोल के लेवल को बनाए रखने और कम करने में मदद करती है। इससे शरीर में कॉर्टिसोल का लेवल कम होगा और ऐंग्जाइटी यानी बेचैनी महसूस नहीं होती।