विटामिन ई की ज्यादा खुराक नुकसानदायक


लंदन। एक ताजा अध्ययन में विटामिन ई के लिए अनुपूरक आहार के सेवन से बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। शोधकर्ताओं ने चूहों पर किए गए अपने अध्ययन में पाया कि आक्सीकरण रोधी पदार्थ के रूप में सर्वाधिक इस्तेमाल किए जाने वाले दो पदार्थों, जिसमें विटामिन ई भी शामिल है, के कारण पेâफड़े के वैंâसर पर रोकथाम की बजाय यह बीमारी और तेजी से बढ़ती है। इस शोध का मुख्य संदेश यह है कि ये आक्सीकरण रोधी पदार्थ वैंâसर के खतरे को कम नहीं करते, बाqल्क कुछ तरह के वैंâसर रोगों को कुछ हद तक बढ़ाने का काम ही करते हैं। एक शोध पत्रिका के अंक में प्रकाशित शोध पत्र के अनुसार उन्होंने पहले चूहों को एन-एसीटिलसिस्टीन (एनएसी) नामक आक्सीकरण रोधी पदार्थ देने का पैâसला किया। इसके बाद उन्होंने विटामिन ई जैसा दूसरा सर्वाधिक इस्तेमाल होने वाले आक्सीकरण रोधी का प्रयोग चूहों पर किया। उन्होंने निर्धारित सीमा से पांच से पचास गुना अधिक तक ये पदार्थ चूहों को रोजाना दिए। उल्लेखनीय है कि हम जो अनुपूरक आहार लेते हैं उसमें भी मनुष्य के लिए निर्धारित प्रतिदिन ली जाने वाली विटामिन-ई की चार से २० गुना अधिक तक मात्रा होती है। वैज्ञानिकों ने दोनों ऑक्सीकरण रोधी पदार्थो का प्रभाव एक जैसा पाया। पेâफड़े की सामान्य समस्या से ग्रस्त व्यक्तियों के लिए भी विटामिन-ई की अत्यधिक मात्रा वाले ये अनुपूरक आहार घातक परिणाम वाले हो सकते हैं।