रिश्ते सुधार सकता है गुस्से का इजहार


मुंबई । एक नए अध्ययन के मुताबिक कभी-कभार गुस्से का इजहार रिश्ते से जुड़ी समस्याओं को हल करने के लिए आवश्यक हो जाता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि गुस्से का इजहार करने से कुछ देर के लिए परेशानी हो सकती है और इसका असर बातचीत पर पड़ सकता है लेकिन दीर्घावधि में यह आपके रिश्तों के लिए लाभकारी साबित होगा। हाल के वर्ष में किये गये एक शोध से पता चला है कि माफ करने से, आशावादी रहने से, दूसरे के प्रति दयालु रहने से, सकारात्मक सोच रखने से लोग टूट चुके रिश्तों को भी जोड़ सकते हैं। हाल में किये गये नये अध्ययन में पाया कि वैवाहिक जीवन में माफ करना कभी-कभार अनायास नकारात्मक प्रभाव छोड़ देता है। अध्ययनकर्ता ने कहा कि हम सभी लोगों ने अनुभव किया है कि रिश्ते में जिसमें एक हमसफर हद पार करने की कोशिश करता है। उदाहरण के तौर पर हमसफर र्आिथक रूप से गैर जिम्मेदार, अविश्वासी या असहयोगी हो सकता है। जब ऐसी परिाqस्थति सामने आती है हम लोग निर्णय लेते हैं कि क्या हम लोगों को गुस्सा करना चाहिए या माफ कर देना चाहिए।