मानसून में पत्तेदार सब्जियों के सेवन से बचे


नई दिल्ली। मानसून का सीजन आते ही हमें अपने खानवान का विशेष ध्यान रखना होता है क्योंकि इस सीजन में वातावरण में नमी होने की वजह से वायरस, बैक्टीरिया और इसी तरह के कई कीटाणु पनपने लगते है। बारिश के सीजन में कई ऐसी चीजें हैं जिससे हमें परहेज रखना चाहिए। खासतौर पर कुछ साqब्जयों का तो बिल्कुल भी इस मौसम में सेवन नहीं करना चाहिए। डॉ. शिखा शर्मा बता रही हैं कौन सी हैं वे साqब्जया जिनका सेवन बरसात के मौसम में नहीं करना चाहिए। नमी के कारण कई कीटाणु भी पनपने लगते है। कुछ कीटाणु साqब्जयों में पाएं जाते हैं तो कुछ वातावरण में पनपते हैं। ऐसे में कुछ साqब्जयों को खाने से बचें खासतौर पर वे जिनमें कीड़े होते हैं। पत्ता गोभी खाने से बचना चाहिए। पत्ता गोभी में कई तरह के लार्वा पनपते हैं। अगर पत्ता गोभी को ठीक से ना धोया जाए तो ये लार्वा हमारे शरीर में चले जाते हैं। पूâल गोभी में भी लार्वा मौजूद होते हैं और इसके सेवन से गैस बनती हैं। इस मौसम में पूâल गोभी खाने से शरीर में वात की समस्या भी बढ़ जाती है। इससे कई तरह की तकलीपेंâ होने लगती हैं। शरीर के अलग-अलग हिस्सों में दर्द होने लगता हैं। मसल्स पेन और ज्वॉइंट पेन होने लगता है। इद दर्दों से छुटकारा पाने के लिए वात दोष को कम करना जरूरी है। बरसात के मौसम में सरसों का साग भी ना खाएं। वैसे तो मानूसन में पत्तों वाली किसी भी सब्जी को खाने से बचना चाहिए क्योंकि इनमें लार्वा बहुत तेजी से पनपता है। सरसों के साग को खाने से वात दोष तो बढ़ता ही है इसमें लार्वा भी बहुत अधिक होता है। सरसों के साग से गैस भी बहुत बनती है इसलिए इसे नजरअंदाज करना चाहिए। बरसात के मौसम में सलाद के तौर पर पत्ते ना खाएं। अगर आप इन साqब्जयों को खाना भी चाहते हैं तो बहुत अच्छी तरह से धोएं और उबालकर खाएं।