बीमार कर सकते हैं बटुए में रखे नोट


लन्दन । बटुए यानी पर्स में रखे नोटों की वजह से आप बीमार हो सकते हैं। दरअसल, बटुए में रखे नोटों में कई प्रकार के बैक्टीरिया हैं जो आपको अपनी चपेट में ले सकते हैं। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान वेंâद्र (सीएसआईआर) और जिनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायलॉजी (आईजीआईबी) संस्थान द्वारा किए गए एक शोध में इसकी पुाqष्ट हुई है। शोध रिपोर्ट में कहा गया है कि एक करेंसी नोट में औसतन पंâगस, बैक्टीरिया और वायरस पाए जाते हैं। हालांकि हर नोट में इनकी संख्या कम ज्यादा हो सकती है, लेकिन कई हाथों में गुजरने की वजह से ऐसा होता है।विश्लेषण से यह भी पता चला है कि कागज के इन नोट पर विविध प्रकार के सूक्ष्मजीव होते हैं और कई एंटीबायोटिक प्रतिरोधी भी होते हैं। इन रोगजनक सूक्ष्मजीवों से त्वचा रोग, पंâगल इनपेâक्शन, पेट के संक्रमण, सांस संबंधी परेशानियां और टीबी भी हो सकती है। सीएसआईआर और आईजीआईबी ने अपने शोध के लिए दिल्ली के रेहड़ी पटरीवालों, किराने की दुकानों, वैंâटीन, चाय की दुकानों, हार्डवेयर की दुकानों, दवा की दुकानों आदि से नमूने इकट्ठे किए गए थे। उनमें १०, २० और १०० रुपए के नोट थे जिनका व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। गौरतलब है कि बीमारियों से बचने के लिए ही ऑस्ट्रेलिया, ब्रूनेई, पापुआ न्यूगिनी, रोमानिया, न्यूजीलैंड और विएतनाम जैसे देशों ने कागज के स्थान पर प्लााqस्टक से बने करेंसी नोटों का प्रचलन शुरू किया है। प्लााqस्टक नोट्स की खासियत है कि इनकी उम्र कागज के मुकाबले काफी अधिक होती है, इन्हें साफ किया जा सकता है और ये जल्दी खराब भी नहीं होते हैं। शोध संगठनों का सुझाव है कि नोटों को संभालने के बाद किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचने के लिए हाथ को रोगाणुमुक्त कर लेना चाहिए।