बचपन में विटामिन डी की कमी से ह्दय रोग का खतरा


वॉिंशगटन। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि बचपन में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा न मिलने से बड़े होकर दिल की बीमारियों का खतरा रहता है। शोध में पता चला है कि बचपन में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा नहीं मिलने से २५ साल बाद वयस्क अवस्था में यही कमी सबाqक्लनिकल एथेरोस्क्लेरोसिस के रूप में सामने आती है। एथेरोस्क्लेरोसिस का सीधा संबंध दिल की बीमारी से है और यह हृदय की गतिविधियों को प्रभावित करती है। फिनलैंड की यूनिर्विसटी ऑफ टुरकु के मारकुस जुओनाला ने कहा कि हमारे शोध के परिणाम के अनुसार बचपन में विटामिन डी की कमी और वयस्क अवस्था में सबाqक्लनिकल एथेरोस्क्लेरोसिस की समस्या के बीच संबंध पाया गया है। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पहले तीन से १८ साल के आयुवर्ग के २,१४८ प्रतिभागियों का अध्ययन किया और इन्हीं प्रतिभागियों का ३० से ४५ की उम्र में फिर से अध्ययन किया गया। अध्ययन में सामने आया है कि जिन प्रतिभागियों को बचपन में विटामिन डी की भरपूर मात्रा नहीं मिली थी, उन्हें वयस्क होने के बाद एथेरोस्क्लेरोसिस के लिए जिम्मेदार वैâरोटिड इंटीमा-थिकनेस (आईएमटी) अर्थात दिल की बीमारी का खतरा अपेक्षाकृत ज्यादा था।