कम समय में स्तन कैंसर से मुक्ति दिलाएगी नई तकनीक


लंदन । वैज्ञानिकों ने स्तन वैंâसर के इलाज में एक नई सफलता हासिल की है। नई तकनीकी विधि से स्तन के टयूमर को सिर्पâ ११ दिन में खत्म करना अब संभव होगा। ब्रिटेन के विज्ञानियों ने स्तन वैंâसर की दो दवाओं टीवर्ब और हर्सेाqप्टन को मिला कर प्रयोग किया जिसके चमत्कारी परिणाम सामने आए हैं। परीक्षण के दौरान ११ प्रतिशत महिलाओं का स्तन वैंâसर पूरी तरह समाप्त हो गया, ८७ प्रतिशत में वैंâसर कोशिकाओं का निर्माण बंद हो गया। शोधकर्ताओं ने नई तकनीक का नाम गेम चेंजर बताया है। दो तरह की तकनीक के इस्तेमाल से लाखों महिलाओं को पीड़ादायक कीमोथेरैपी से भी मुक्ति मिल जाएगी। ब्रिटिश विज्ञानियों ने शोध के परिणाम एम्सटर्डम में यूरोपीय ब्रीस्ट वैंâसर कांप्रेंâस में सार्वजनिक किए। उन्होंने बताया कि वैंâसर के मरीजों पर इलाज का इतना तीव्र असर पहले कभी नहीं देखा गया। तेजी से पैâलने वाले वैंâसर (एचईआर-२) से पीड़ित महिला मरीजों पर ब्रिटेन के २३ अस्पतालों में नई थेरैपी से परीक्षण किया गया। इस दौरान मिले परिणाामों से उत्साहित विज्ञानियों ने कहा है १७ प्रतिशत मरीजों का टयूमर अप्रत्याशित रूप से सिकुड़ गया। दो प्रचलित दवाओं को मिला कर इलाज शुरू किया गया था। यूनिर्विसटी ऑफ मैनचेस्टर एवं लंदन के इंस्टीटयूट के विज्ञानियों की टीम का मुख्य उद्देश्य यह था कि सर्जरी से पहले दवा से टयूमर का आकार कुछ कम किया जाए यानी उसमें कुछ सिकुड़न हो। परीक्षण के बाद तथा सर्जरी से पूर्व जब जांच की गई तो चिकित्सकों ने पाया कि कई महिलाओं में कुछ दिन पहले तीन सेंटीमीटर तक का टयूमर था उनमें से कुछ मरीजों में वह पूरी तरह गायब हो गया। शोध का नेतृत्व करने वाले प्रोपेâसर निगेल बंड्रेड का कहना है कि ११ दिन में टयूमर का गायब हो जाना आज तक नहीं सुना था। परिणाम सभी के लिए चौंकाने वाले हैं। हर्सेाqप्टन दवा को ड्रिप से दिया गया और टीवर्ब को टेबलेट के रूप में। शोध में यह निष्कर्ष भी सामने आया कि दवाओं का कॉम्बीनेशन ठीक हो तो वे असर जरूर करती हैं। यहां भी वही हुआ। यह शोध ६६ महिला मरीजों पर किया गया जो तेजी से पैâलने वाले वैंâसर से पीड़ित थीं। विज्ञानी अब अपनी शोध को आम मरीजों पर इस्तेमाल करने से पहले एक और परीक्षण करना चाहते हैं ताकि विश्वसनीयता का अधिकतम स्तर प्राप्त किया जा सके।