उम्र के साथ घटती है शारीरिक क्षमता


न्यूयॉर्वâ। एक खास अध्ययन में यह बात सामने आई है कि ५० की उम्र में ही लोगों की शारीरिक क्षमता औसतन रूप से ज्यादा घटने लगती है। अध्ययन में सुझाव दिया गया है कि अपनी शक्ति और मजबूती को बरकरार रखने के लिए ५० की उम्र से पहले ही इसके प्रयास शुरू कर देने चाहिए। लोग अपने तरीके से बाद के जीवन की सक्रियता के लिए अपने को बेहतर तरीके से तैयार कर सकते हैं। डयूक यूनिर्विसटी स्वूâल ऑफ मेडिसिन के जर्नल डयूक हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन में शोधकर्ता मिरीम सी मोरे ने कहा कि सामान्य तौर पर लोगों के पंâक्शनल टेस्ट ७० और ८० की उम्र में किए जाते हैं। ऐसा होने की वजह से लोग समस्याओं से निपटने और तैयारी के ४० साल गवां देते हैं। शोधकर्ताओं ने ७७५ लोगों के एक समूह पर अध्ययन किया। इनकी उम्र ३० से १०० साल तक थी। इसमें सभी सहभागियों ने एक ही तरह के कार्य अपनी शक्ति और धैर्य दिखाने के लिए किए। इसमें कुर्सी से ३० सेवेंâड के अंतराल पर चढ़ना उतरना, एक पैर पर एक मिनट के लिए खड़ा होना और ६ मिनट टहलना शामिल रहा।
इसके साथ उनकी वॉिंकग स्पीड दस गज की दूरी की मापी गई। इसमें यह बात सामने आई कि पुरुषों ने महिलाओं की तुलना में कार्यों में बेहतर प्रदर्शन किया। इसी तरह कम उम्र के लोगों ने अधिक उम्र वालों की तुलना में बेहतर किया। लेकिन, इस अध्ययन में यह पाया गया कि ५० की उम्र में शारीरिक कार्य करने की क्षमता घटनी शुरू हो जाती है। इस पर जेंडर और जनसाांqख्यकी की विशेषताओं का कोई असर नहीं होता। पुरुष और महिलाएं, दोनों ही जो अपने जीवन के मध्य भाग में थे वह कुर्सी पर चढ़ने और एक पैर पर खड़े होने में गिरने लगे। अगले समूह के लोगों में भी गिरने का सिलसिला जारी रहा। ६० और ७० साल वाले लोगों में यह अंतर शारीरिक कार्य करने में और साफ दिखाई दिया। डयूक यूनिर्विसटी स्वूâल ऑफ मेडिसीन की असिस्टेंट प्रोपेâसर वैâथरीन एस हाल कहती हैं कि लोग अक्सर बुढ़ापे की गलत व्याख्या करते हैं। वे बूढ़े होने को उम्र बढ़ने से जोड़ते हैं। उनके लिए जीवन के बाद के दिनों में क्रियाशील होना कोई मुद्दा नहीं होता। अच्छी बात यह है कि नियमित व्यायाम और ऐसी ही दूसरी बातों का ध्यान रखकर हम ज्यादा समय तक क्रियाशील रह सकते हैं।