उपवास से दूर रहेगा बुढ़ापा


नई दिल्ला। उपवास वैसे तो धर्म से जोड़ा जाता है पर इसका शरीर पर गहरा प्रभाव पड़ता है। मानव शरीर से यदि कुछ जींस हटा दिए जाएं तो उम्र ६० फीसदी तक बढ़ सकती है। विज्ञानियों ने ऐसे दो सौ से अधिक जींस की पहचान की है जो मानव को बुढ़ापे की ओर ले जाते हैं। विज्ञानियों का कहना है कि यदि इनको निाqष्क्रय कर दिया जाए तो जीवन काल में चमत्कारी तरीके से वृद्धि संभव है। यह तथ्य भी सामने आया कि ऐसे जीन का संबंध वैâलोरी से होता है, यदि भोजन से मिलने वाली वैâलोरी में कटौती कर दी जाए तो इनको निाqष्क्रय करने में मदद मिलती है। यह कमी उपवास से की जा सकती है, अनेक रोगों को दूर रखा जा सकता है। बक इंस्टीटयूट फार रिसर्च ऑन एिंजग और यूनिर्विसटी ऑफ वािंशगटन के विज्ञानियों ने दस साल के शोध के बाद ऐसे २३८ जींस को पहचाना जिन पर बंदिश लग जाए तो शरीर की विशेष कोशिकाओं की आयु बढ़ाई जा सकती है।
विज्ञानी डॉ ब्रयान केनेडी का कहना है कि यह शोध पूरे जीनोम (गुणसूत्र) को शामिल करते हुए किया गया और पहली बार यह स्पष्ट हुआ है कि उम्र वैâसे बढ़ती है। विज्ञानी डॉ मार्वâ मक्र्कािमक का कहना है कि उपचारात्मक विधियों से ऐसे जीन को हटाया जा सकता है। विज्ञानियों ने मानव की बढ़ती उम्र के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार ४,६९८ जीनों को चुना, इसके बाद इनके एकल अपमार्जन( कटौती) का अध्ययन किया गया, फिर पता लगाया गया कि विभाजित होने से पहले वे कितने समय तक जीवित रहते हैं। इसके बाद एक जीन एलओसीआइ को निाqष्क्रय किया गया तो प्रभावशाली परिणाम सामने आए। इससे जीवन काल में ६० प्रतिशत वृद्धि की संभावना बढ़ी। एलओसीआइ जीन का संबंध वैâलोरी से है।