#Metoo : यौन उत्पीड़न की शिकायतों के बाद अनु मलिक की सिंगिंग रियलिटी शो से छुट्टी


अनु मलिक पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद चैनल ने अंतत: उन्हें सिंगिंग रियालिटी इंडियन आइडल से बाहर करने का निर्णय ले लिया है।
(Photo: IANS)

मुंबई (ईएमएस)। प्रख्यात गायक और म्यूजिक कंपोजर अनु मलिक पर अब तक चार महिलाएं यौन शोषण का आरोप लगा चुकी हैं। इनमें गायिका श्वेता पंडित, सोना महापात्रा और दो अनाम पीड़िताएं शामिल हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इन आरोपों के बाद अनु मलिक की उस सिंगिंग रिएलिटी शो से छुट्टी कर दी गई है, जिसमें वह जज की भूमिका निभा रहे थे।

अनु मलिक पर लगे आरोपों के बाद चैनल ने उनके खिलाफ कोई स्टैंड लेने में काफी समय लगाया। इस मुद्दे को लेकर लगातार बैठकें हुईं और अंतत: उन्हें इस शो से बाहर करने का निर्णय लिया गया। इस बीच टीवी शो के पांचवे सीजन में स्टाफ मेंबर रही एक महिला ने कहा वह कई महिलाओं के बारे में जानती हैं, जिन्हें अनु मलिक के हाथों शोषण का शिकार होना पड़ा है।

न्यूयॉर्क बेस्ड निर्माता डेनिका डिसूजा ने खुलासा किया कि इंडियन आइडल की शूट के दौरान सभी को अनु मलिक के व्यवहार के बारे में पता था बावजूद इसके ऊपरी कमान संभाले लोगों ने इसे इग्नोर किया। सिंगर श्वेता पंडित ने कुछ दिन पहले ट्विटर पर अपनी मीटू स्टोरी शेयर करते हुए अनु मलिक पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। श्वेता ने अपनी पोस्ट में बताया कि यह सब साल 2001 में हुआ था, जब वह सिर्फ 15 साल की थीं। उस समय वह सबसे यंग सिंगर थीं। एक दिन अनु मलिक के उस समय मैनेजर रहे मुस्तफा ने उन्हें कॉल किया और गाने का ऑफर दिया।
इसके लिए श्वेता को एंपायर स्टूडियो आने के लिए कहा गया। वह अपनी मां के साथ वहां पहुंची, उस समय अनु मलिक फिल्म ‘आवारा पागल दीवाना’ के लिए गाना रिकॉर्ड कर रहे थे। श्वेता को छोटे केबिन में रुकने के लिए कहा गया। केबिन में दोनों अकेले थे। अनु मलिक ने श्वेता से बिना म्यूजिक के गाना गाने को कहा। श्वेता ने गाना गाया और अनु मलिक उनसे इंप्रेस हुए। श्वेता ने आगे बताया उन्होंने मुझसे कहा कि मैंने अच्छा गाया है। इसके बाद अनु मलिक ने मुझे कहा मैं सुनिधि चौहान और शान के साथ तुम्हें यह गाना दूंगा लेकिन पहले मुझे किस दो। उसके बाद वह मुस्कुरा दिए। वह सबसे डरावनी मुस्कान थी। उनकी बात सुनते ही मैं डर गई। मेरा चेहरा पीला पड़ गया। उन्होंने आगे कहा कि उस समय वह सिर्फ 15 साल की थीं और स्कूल में पढ़ती थीं। ऐसे में उन पर क्या असर हुआ होगा यह कोई सोच भी नहीं सकता।