बालीवुड के हीमैन अपनी शायरी पर कोई किताब नहीं लिखेंगे


मुंबई । बालीवुड के हीमैन यानी धर्मेंद्र जल्द ही अपने करियर के 6 दशक यानी 60 साल पूरे कर लेंगे। पिछले कई सालों से शायरी लिख रहे धर्मेंद्र ने कहा कि वह अपनी शायरी पर कोई किताब तो नहीं लिखेंगे, लेकिन उसे पिक्चराइज जरूर करेंगे।

धर्मेंद्र आगे कहते हैं कि ‘मैंने कभी सोचा ही नहीं था कि कभी मैं शायरी लिखूंगा। जज्बाती इंसान हूं इसलिए जब कोई चीज मुझे छू जाती है तो उसके एहसास उभरकर शायरी का रूप ले लेते हैं। उर्दू मैंने पढ़ी है, इसलिए कहता हूं।’ ‘एहसान मंद हूं, जबान ए उर्दू तेरा, तेरी जबान में बयान ए एहसास दिल आ गया।’

अपनी शायरी को आसान बताते हुए धर्मेंद्र कहते हैं, ‘मैं कोई लंबी-चौड़ी और मुश्किल शायरी नहीं करता हूं। अपनी शायरी में आप लोगों के दिलों की बात करता हूं।’ ‘शायरी मेरी, बात ये दिल की तेरी-मेरी, जिस दिल ने सुनी उस दिल ने कहा, कब इसने सुनी, चुपके से कह दी।’ ‘दिल की हर दिल को छू गई, दिल ने दिल की जब दिल से कह दी।’