दिलीप कुुमार : पाकिस्तान भी मांगता है जिनके सेहतमंद होने की दुआ


यूं तो आतंकवाद मसले पर भारत और पाकिस्तान के बीच सदा से तनातनी चली आ रही है, लेकिन ऐसे विषय भी हैं, जिन पर दुश्मनी भूल बेहतरी की दुआ के लिए हाथ अपने आप उठ जाते हैं। जी हॉं, ऐसे ही व्यक्तित्वों में बॉलीवुड के ट्रेजडीकिंग कहे जाने वाले दिलीप कुमार साहब का नाम आता है। उनके चाहने वाले जितने भारत में हैं उतने ही पाकिस्तान में भी मौजूद हैं।

चूंकि इस समय यूसुफ साहब की तबीयत खराब चल रही है और उन्हें अस्पताल में इलाज के लिए दाखिल किया गया है तो पाकिस्‍तान से भी दुआएं किए जाने की खबरें आम हो रही हैं। यहां आपको बतला दें कि दिलीप साहब को बुधवार के दिन मुंबई के लीलावती अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था क्योंकि वे चेस्‍ट में इंफेक्‍शन के चलते असहज महसूस कर रहे थे। डॉक्टरों ने दवाओं के साथ ही उन्‍हें दुआओं की दरकार बताई।

जैसे ही यह खबर आम हुई न केवल उनके भारतीय प्रशंसकों ने सलामती की दुआएं मांगी, बल्‍क‍ि पाकिस्‍तान फैन्‍स ने भी लिखा कि वे जल्‍द स्‍वस्‍थ हों, उनकी सेहत के लिए हम दुआ करते हैं। सोशल मीडिया पर अनेक लोगों ने उनकी सेहत के लिए दुआ करने की बात कही है।

गौरतलब है कि दिलीप साहब का जन्‍म पेशावर (जो कि अब पाकिस्‍तान में है) में 11 दिसंबर, 1922 को हुआ था। खास बात यह है कि दिलीप साहब आजादी से पहले ही फिल्मों में आ गए थे, जानकारी अनुसार उन्‍होंने 1944 में फिल्‍म ‘ज्‍वार भाटा’ से फिल्मी दुनिया में कदम रखा था। इसके बाद ऐसी न जाने कितनी फिल्में हैं, जिनके लिए उन्हें अब सदियों याद किया जाता रहेगा। इन्हीं फिल्मों में क्रांति, गंगा जमुना, मधुमती, कोहिनूर, राम और श्‍याम, आजाद, सौदागार का नाम लिया जा सकता है। यह बात कम लोग ही जानते होंगे कि दिलीप साहब ने हिन्दुस्तान में फिल्में कीं लेकिन उन्‍हें पाकिस्‍तान के सर्वोच्‍च सम्‍मान निशान-ए-इम्‍त‍ियाज से नवाजा गया, यह वो सम्मान है जो बहुत ही कम कलाकारों को मिलता है।