सलमान के पास ड्राइिंवग लाइसेंस नहीं था : गवाह


मुंबई । क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय के एक अधिकारी ने हिट ऐंड रन मामले की सुनवाई के दौरान सत्र अदालत को सोमवार को बताया कि हादसे के समय बॉलीवुड स्टार सलमान खान के पास ड्राइिंवग लाइसेंस नहीं था। मामले में गवाही देते हुए आरटीओ अधिकारी ने सत्र न्यायाधीश डी डब्ल्यू देशपांडे को बताया कि बॉलीवुड स्टार ने २००४ में ड्राइिंवग लाइसेंस प्राप्त किया और २००२ में दुर्घटना के समय उसके पास लाइसेंस नहीं था। गवाह आरटीओ के सहायक निरीक्षक हैं।
जब लोक अभियोजक प्रदीप घरात ने उनसे पूछताछ की तो उन्होंने सलमान के ड्राइिंवग लाइसेंस का रिकार्ड भी अदालत में पेश किया। एक अन्य गवाह, जो पुलिस उप निरीक्षक हैं, ने अदालत को बताया कि खून की जांच के लिए वह सलमान के साथ जेजे अस्पताल गए थे। गवाह ने बताया कि सलमान को डॉक्टर शशिकांत पवार के पास खून की जांच के लिए ले जाया गया ताकि यह पता लगाया जा सके कि उन्होंने शराब पी रखी है या नहीं। रोजाना के आधार पर मामले की सुनवाई कर रही निचली अदालत में दोनों गवाहों से पूछताछ की गई। अभी तक २० से ज्यादा गवाहों से पूछताछ की जा चुकी है और कुछ से पूछताछ होनी बाकी है।
गौरतलब है कि २८ सितंबर २००२ को सलमान की कार बांद्रा में बेकरी से टकरा गई थी। इस हादसे में बेकरी के बाहर सो रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि चार अन्य घायल हो गए। करीब एक दशक तक चले इस मामले ने तब एक नया मोड़ ले लिया जब एक नगर मजिस्ट्रेट ने १७ गवाहों से पूछताछ करने के बाद कहा कि सलमान के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला बनता है।