मंदिर और चर्च को दान देने पर घिरी ‘पीके’ की यूनिट 


नईदिल्ली । निर्देशक राजकुमार हिरानी की फिल्म ‘पीके’ में र्धािमक पाखंडों, अंधविश्वासों और पोंगापंडितों पर जमकर प्रहार किया है। धर्म के नाम पर कारोबार करने वालों की िंखचाई करते हुए फिल्म में बताया है कि दान-दक्षिणा से आपका कोई काम नहीं होता है, लेकिन अब यह बात सामने आ रही है कि इसकी शूिंटग के दौरान र्धािमक स्थलों को यूनिट की ओर से दान दिए गए। एक रिपोर्ट में बताया कि शूिंटग के दौरान जयपुर के एक चर्च को २० हजार और नासिक के मंदिर को २५ हजार रु दान दिया। इसकी पुाqष्ट हिरानी के प्रवक्ता ने की। फिल्म में एक सीन है, जिसमें पीके का किरदार निभा रहे आमिर खान को हाथ में पूजा की थाली लेकर चर्च जाते हुए दिखाया है। चर्च में आमिर खान यानी नारियल फोड़ने की कोशिश करते हैं। यह सीन जयपुर के एक चर्च में फिल्माया है। चर्च के पादरी जेसी जोसफ ने मीडिया को बताया कि फिल्म यूनिट ने चर्च को २० हजार रु का चंदा दिया। इतना ही नहीं फिल्म निर्देशक राजकुमार हिरानी ने चर्च को एक बड़ा व्रूâस भी दिया, जिसे वह मुंबई से अपने साथ लेकर आए थे। फिल्म में एक दूसरा सीन है, जिसमें आमिर नासिक के कालाराम मंदिर में लोट-लोट कर भक्ति भाव दिखाते हैं। फिल्म में मंदिर में होने वाले पाखंड का पीके खूब मजाक उड़ाता है, लेकिन फिल्म की यूनिट ने से इस मंदिर को शूिंटग के बाद २५ हजार रु दान में दिए। काला राम मंदिर के ट्रस्टी पांडुरंग बोडके न्यूज चैनल से बातचीत में इस बात की पुाqष्ट की कि मंदिर को २५ हजार रु दान में मिले हैं। कुछ लोगों ने मंदिर में आमिर की शूिंटग करने को विरोध भी किया था, लेकिन बाद में इजाजत मिल गई थी। राजकुमार हिरानी के प्रवक्ता का कहना है कि फिल्म की शूिंटग के समय मंदिर और चर्च को दान दिया था। इस विवाद के बीच जयपुर के एक शख्स ने फिल्म के खिलाफ शहर के बजाज नगर पुलिस स्टेशन में मुकद्दमा दर्ज करवाया है। पुलिस ने शिकायत पर फिल्म ऐक्टर आमिर खान, राजकुमार हीरानी, प्रडयूसर विधु विनोद चोपड़ा और सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष लीला सैमसन के खिलाफ मामला दर्ज भी किया है।