‘द जंगल बुक’ को सेंसर बोर्ड ने दिया यू/ए र्सिटफिकेट


मुंबई। डिज़्नी की बहुप्रतिष्ठित बाल फिल्म ‘द जंगल बुक’ को सेंसर बोर्ड द्वारा यू/ए र्सिटफिकेट दिया गया है, जिसके चलते एक बार फिर सेंसर बोर्ड विवादों में घिर गया है। बोर्ड ने इस फिल्म में कुछ डरावने दृश्य होने के कारण यू/ए सर्टिफिकेट दिया है। खबर मिलते ही बॉलीवुड एवं सोशल मीडिया में टिप्पणियों के चलते बवाल शुरू हो गया है। भारत ाqस्थत रडयार्ड किपिंलग की कहानियों पर आधारित ‘द जंगल बुक’ एक रोमांचक, साहसिक फिल्म है, जिसके निर्देशक जॉन पेâवरिओ हैं। इस फिल्म को जाqस्टन माक्र्स ने लिखा है तथा इसके निर्माता वाल्ट डिजनी पिक्चर्स हैं। लेकिन यू/ए र्सिटफिकेट का मतलब होता है कि फिल्म को देखने के लिए माता-पिता के मार्गदर्शन की जरूरत है। यह फिल्म शुक्रवार को रिलीज हो चुकी है जबकि अमेरिका में यह फिल्म एक सप्ताह बाद रिलीज होगी। वेंâद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने पिछले साल जेम्स बांड की फिल्म ‘स्पेक्टर’ में एक ‘किस’ की अवधि को कम करके बड़ा विवाद खड़ा कर दिया था, लेकिन ‘द जंगल बुक’ फिल्म को बहुत डरावनी होने के चलते यू/ए र्सिटफिकेट दे दिया गया। इस निर्णय से लोग काफी निराश है और उन्होंने सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म को हरी झंडी दिखाने को लेकर संवेदनहीन रुख अपनाने का आरोप लगाया। फिल्म निर्माता मुकेश भट्ट का इस पर कहना है कि वेंâद्र सरकार को सेंसर बोर्ड के पैâसलों पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मेरी राय में सेंसर बोर्ड को कचरे में पेंâक देना चाहिए।’