लाकडाउन ई-कॉमर्स दिग्गजों के हाथ-पांव फुले


Image | Pixabay.com

नई दिल्ली (ईएमएस)। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन की वजह से हालात बिगड़ रहे हैं। लोगों को जरूरी सामान खोजने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कन्ज्यूमर्स तक ई-कॉमर्स ग्रॉसरी एप जैसे कि ग्रोफर्स, बिगबास्केट, दूधवाले.कॉम आदि के द्वारा खाने-पीने के जरूरी सामान की डिलिवरी नहीं हो पा रही है। बिग बास्केट, फ्लिपकार्ट, अमेजान आदि ने गैर-जरूरी आइटमों के ऑर्डर अस्थायी तौर पर सस्पेंड कर दिए हैं। ग्रोफर्स अपने ग्राहकों को संदेश भेजकर ऑर्डर में देरी की माफी मांग रहा है। कंपनी का कहना है कि हम समझते हैं इस संकट की घड़ी में ग्रॉसरी की समय पर डिलिवरी कितनी जरूरी है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से हमारा डिलिवरी स्टाफ चेकपॉइंट्स पर रोक लिया जा रहा है। इसके अलावा, कई स्थानीय अथॉरिटीज ने हमारे गोदाम बंद कर दिए हैं। हमारी कोशिश है कि आप तक जरूरी चीजें पहुंचे लेकिन देरी हो सकती है। अगर इस बीच अपने कहीं और से ग्रॉसरी का इंतजाम किया है,तब हमें बताकर ऑर्डर कैंसल कर दें ताकि उस स्लॉट में अन्य लोगों को मदद मिल सके।

ग्रोफर्स की ओर से एक संदेश जारी कर ग्राहकों को बताया है कि वह ऑर्डर स्वीकार नहीं कर रहा है। साथ ही, ग्राहकों को सर्विस दोबारा चालू होने को लेकर नोटिफाई करने के लिए कहा है। इसी तरह, बिग बास्केट सिर्फ दूध की डिलिवरी कर रहा है, उसपर यहीं ऑप्शन दिखाई दे रहा है। सुबह 7 बजे से पहले डिलिवरी की जाएगी। दूध, पनीर, दही, ब्रेड आदि की होम डिलिवरी करने वाला दूधवाले डॉट कॉम भी लोगों तक डिलिवरी नहीं पहुंचा पा रहा है। वह ग्राहकों को संदेश कर ऑर्डर सस्पेंशन की सूचना दे रहा है। उसका कहना है कि लॉकडाउन की वजह से सेवाएं सस्पेंड कर दी गई हैं।एक रिपोर्ट के मुताबिक, बड़ी संख्या में प्रॉडक्ट्स को अब स्टॉक किया जा रहा है। सभी राज्य सरकारों ने कहा है कि सभी ई-कॉमर्स गतिविधियों जैसे वेयरहाउसिंग, लॉजिस्टिक्स विक्रेताओं और डिस्ट्रिब्यूटर्स आदि को लॉकडाउन के दौरान काम करना है ताकि जरूरी चीजों की कमी न हो। लेकिन ज्यादातर ईकॉमर्स प्लैटफॉर्म ने बताया है कि उनके ट्रक आपूर्ति, और वितरण अधिकारियों और पुलिस द्वारा सिटी के अंदर ले जाने से रोक रहें हैं।