भारतीय पूर्व कप्तान एम एस धोनी के साथ धोखाधड़ी, जानिये किसने की ऐसी जुर्रत


(Photo: Sandeep Mahankal/IANS)

भारतीय पूर्व कप्तान एम एस धोनी के साथ धोखाधड़ी किये जाने का एक मामला सामने आया है। आम्रपाली ग्रुप की रियल एस्टेट कंपनी के खिलाफ इस मामले में धोनी ने देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर उन्हें पैंटहाऊस और ४० करोड़ रूपये बकाया दिलवाने की गुहार लगाई है। धोनी इस रियल एस्टेट समुह के लिये वर्ष २००९ से २०१६ तक ब्रांड एम्बेसेडर के रूप में कार्यरत थे। धोनी के अलावा उनकी पत्नी साक्षी भी समुह के चैरीटेबल विंग के साथ संलग्न थी।

धोनी ने अपनी याचिका में कहा था कि उन्होंने रांची के आम्रपाली सफारी में पैंटहाऊस बुक किया था। साथ ही आम्रपाली ग्रुप के प्रबंधन ने उन्हें उनके प्रोजेक्ट्स के ब्रांड एम्बेसेडर के रूप में भी नियुक्त किया था। धोनी का कहना है कि उनके साथ कंपनी ने धोखाधड़ी की है क्योंकि वह उनका बकाया नहीं चुका रही और पैंट हाऊस का कब्जा भी नहीं दे रही।

बता दें कि आम्रपाली ग्रुप के प्रोजेक्ट्स में धोनी ही नहीं, घर खरीदने वाले अन्य ४६ हजार लोग भी धोखाधड़ी का शिकार हैं और सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुके हैं। गौरतलब है कि अदालत आम्रपाल ग्रुप के खिलाफ इन मामलों पर काफी गंभीर है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पहले दिये एक आदेश में अदालत ने ग्रुप की प्रोपर्टीज़ का कब्जा लेने को कहा था। वहीं अदालत ने सरकारी कंपनी एनबीसीसी को यह ‌आदेश भी दिया था कि वह रूके हुए आम्रपाल हाऊसिंग प्रोजेक्ट्स को पूरा करने की प्रक्रिया शुरू करे। वहीं ग्रुप के सीएमडी अनिल शर्मा और दो निदेशकों शिव दीवानी औश्र अजय कुमार को विगत २० फरवरी को पुलिस कस्टडी में भी भेजा गया था।