बीमा पॉलिसी से जुड़ी इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो भुगतना पड़ सकता है नुकसान


( Photo Credit : economictimes.indiatimes.com )

जीवन बीमा किसी भी परिवार में परिवार के मुख्य कमाई करने वाले व्यक्ति की मृत्यु के कारण होने वाले वित्तीय नुकसान को दूर करता है। जीवन बीमा में वर्तमान वार्षिक आय का 10 गुना तक का कवर मिल सकता है।

अक्सर लोगों को किसी समस्या के कारण मौजूदा जीवन बीमा योजना को बंद करने की आवश्यकता भी उत्पन्न हो जाती है। ऐसे हालात में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यदि आप टर्म इंश्योरेंस प्लान में प्रीमियम देना बंद कर देते हैं तो पॉलिसी बंद हो जाती है। कई योजनाओं में बीमा और निवेश दोनों एक साथ होते हैं।

( Photo Credit : financialexpress.com )

यदि पॉलिसी पूरी होने से पहले बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है तो नामित व्यक्ति को बीमा राशि प्राप्त होती है। यदि पॉलिसी पूरी होने तक बीमित व्यक्ति बच जाता है, तो परिपक्वता लाभ मिलता है। यदि आप पॉलिसी समाप्त होने से पहले छोड़ देते हैं, तो प्रीमियम के रूप में आने वाला भुगतान कम हो जाता है।

पॉलिसी बंद करने की नीति :

आप अपनी बीमा पॉलिसी को दो तरीकों से बंद कर सकते हैं। यदि आवश्यक अवधि के बाद प्रीमियम का भुगतान नहीं किया जाता तो पॉलिसी को पेड-अप पॉलिसी में बदल दिया जाए। अथवा पॉलिसी को सरेंडर करके इंश्योरर से सरैन्डर वैल्यू प्राप्त किया जा सकता है। इन दोनों स्थितियों में, आप आवश्यक अवधि के अंत में प्रीमियम का भुगतान करते हैं। इस पॉलिसी के नियमों और शर्तों के अनुसार 2 से 3 साल के बीच की अवधि का आवश्यक समय होता हैं। यदि आप आवश्यक अवधि से पहले पॉलिसी बंद कर देते हैं, तो आपको और नुकसान होगा।

पैड-अप पॉलिसी में बदलाव:

यदि आप आवश्यक अवधि के बाद प्रीमियम का भुगतान रोक देते हैं और आप अपनी नियमित पॉलिसी को पेड-अप में बदल देते हैं, तो आपका बीमा समाप्त नहीं होगा। आप कम राशि के साथ कवर में रहे सकते हैं। यदि आप पॉलिसी के कार्यकाल तक जीवित रहते हो तो आपको परिपक्वता लाभ मिलेगा। यदि आपकी मृत्यु पॉलिसी के कार्यकाल पूर्ण होने से पूर्व होती है तो नामित व्यक्ति को भुगतान किए गए प्रीमियम के अनुसार राशी का भुगतान किया जाएगा। उदाहरण के लिए, यदि आप 20 साल के लिए 50 हजार प्रीमियम देते हैं और 10 लाख की पॉलिसी लेते हैं और 5 साल में प्रीमियम का भुगतान करना बंद कर देते हैं, तो बीमित रकम 2.5 लाख तक कम हो जाएगी, क्योंकि पॉलिसी में भुगतान नीति में बदलाव हुआ है।

पॉलिसी सरैन्डर करने का विकल्प :

पॉलिसी को सरैन्डर करना एक और विकल्प है। आप बीमाकर्ता से पॉलिसी बंद करने तथा सरैन्डर मूल्य प्राप्त करने के लिए कह सकते हैं। पॉलिसी बीमाकर्ता पॉलिसी पूरी होने से पहले सरैन्डर के लिए जुर्माना लगाते हैं। जो की अधिक मात्रा में हो सकता है। यदि आप पॉलिसी को इसके तीसरे वर्ष में सरैन्डर करते हैं, तो आपको भुगतान किए गए पूर्ण प्रीमियम का लगभग 30% मिलेगा। यदि आप चौथे और 7 वें वर्ष के बीच सरैन्डर करते हैं, तो आपको भुगतान किए गए प्रीमियम का लगभग 50% मिलेगा।