फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस, फेड के फैसले का शेयर बाजार पर रहेगा असर


Image | Pixabay.com

नई दिल्ली| बीते हफ्ते भारतीय शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज करने के बाद इस हफ्ते उतार-चढ़ाव बने रहने की संभावना है, क्योंकि कारोबारी चालू महीने के अनुबंध की समाप्ति के बाद फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस यानी एफ एंड ओ सेगमेंट में अगले महीने की सीरीज में पोजीशन बनाएंगे। इसके अलावा डॉलर के मुकाबले रुपये में उतार-चढ़ाव, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम और विदेशी संकेतों से भी घरेलू शेयर बाजार की चाल तय होगी। जानकारों की माने तो भारतीय शेयर सूचकांकों के पिछले सप्ताह गोता खाने के बाद इस सप्ताह उनमें सुधार की संभावना है, मगर देसी-विदेशी संकेतों से बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर देखने को मिल सकता है। बाजार पर अगले सप्ताह विदेशों में जारी होने वाले आर्थिक आंकड़ों का भी असर देखने को मिलेगा। साथ ही बाजार की नजर हालिया राजनीतिक घटनाक्रम पर भी होगी, जिनमें राफेल विमान सौदे को लेकर सरकार और विपक्ष के बीच जारी आरोप-प्रत्यारोप अहम है।

एफ एंड ओ के सिंतबर महीने के अनुबंध की समाप्ति अगले हफ्ते गुरुवार को हो रही है, जिससे कारोबारी अगले महीने की सीरीज में अपने पोजीशन बनाएंगे। इससे एक दिन पहले बुधवार को अमेरिकी केंद्रीय बैंक, फेडरल रिजर्व ब्याज दर को लेकर अपने फैसले की घोषणा कर सकता है। फेड ने अगस्त की अपनी बैठक में फेडरल फंड रेट 1.75 फीसदी से लेकर दो फीसदी के बीच रखने का लक्ष्य तय किया था। इस सप्ताह अमेरिका में दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़े भी आने वाले हैं।

विदेशी शेयर बाजार से मिलने वाले संकेत, डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल, कच्चे तेल के दाम में उतार-चढ़ाव और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों और घरेलू संस्थागत निवेशकों के निवेश के प्रति रुझान का भी घरेलू शेयर बाजार पर असर देखने को मिलेगा।

बैंक ऑफ जापान की मौद्रिक नीति की अंतिम बैठक मंगलवार को शुरू होने जा रही है। पिछली बैठक में 19 सितंबर को बैंक ऑफ जापान अल्पकालिक ब्याज दर नकारात्मक 0.1 फीसदी पर स्थिर रखा था। अमेरिका में अगस्त महीने के लिए नए घरों की बिक्री के आंकड़े बुधवार को जारी हो सकते हैं। जापान में अगस्त महीने के लिए बेरोजगारी के आंकड़े शुक्रवार को जारी होंगे। जापान में जुलाई में बेरोजगारी दर 2.4 फीसदी से बढ़कर 2.5 फीसदी हो गई थी।

वहीं, चीन में सितंबर महीने के लिए कैक्सिन चाइना जनरल मैन्युैक्च रिंग पीएमआई के आंकड़े शुक्रवार को जारी होने वाले हैं। अगस्त में कैक्सिन चाइना जनरल मैन्युैक्च रिंग पीएमआई 50.8 फीसदी से फिसलकर 50.6 फीसदी पर आ गया था।

इस बीच चीन और अमेरिका के बीच व्यापारिक हितों को लेकर टकराव से वैश्विक बाजार में उत्पन्न अनिश्चितता का दौर कायम है।

–आईएएनएस