कोरोना संकट – मदद को आगे आए उद्योगपति आनंद महिंद्रा, मरीजों के लिये अपने रिसोर्ट्स देने की पेशकश


नई दिल्ली (ईएमएस)। जानलेवा कोरोना वायरस के दंश से देश को बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर आम जनता तक सभी पूरे प्रयास कर रहे हैं। देश में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से इजाफा हो रहा है, 340 से ज्यादा लोग कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। आज जनता कर्फ्यू का दिन है, लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं। अब कोरोना के केस आगे और बढ़ने की आंशका के मद्देनजर आनंद महिंद्रा ऐसे पहले उद्योगपति के रूप में सामने आए हैं, जिन्होंने मदद की पेशकश की है। महिंद्रा ने मरीजों के लिए अपने रेजॉर्ट्स देने के साथ-साथ अपना पूरा वेतन देकर मॉनिटरी मदद की बातें कहीं।

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने रविवार को कहा कि उनकी कंपनी तुरंत इन संभावनाओं पर काम करना शुरू कर रही है कि कैसे उनकी निर्माण इकाइयों में वेंटिलेटर तैयार किए जा सकते हैं। साथ ही, उन्होंने कहा कि उनके क्लब महिंद्रा रेजॉर्ट्स मरीजों की देखभाल के लिए अस्थायी सुविधाओं के रूप में इस्तेमाल किए जा सकते हैं। आनंद ने इसके अलावा यह भी कहा कि उनकी कंपंनी अन्य सुविधाओं को तैयार करने में सरकार और सेना की पूरी मदद करेगी।

लगातार कई ट्वीट्स कर महिंद्रा ने कोरोना जैसी जानलेवा बीमारी से लड़ने को लेकर कई सुझाव दिए और मेडिकल फसिलिटीज पर दबाव कम करने की बात भी कही। उन्होंने लिखा कि कई रिपोर्टों के आधार पर यह माना जा सकता है कि कोरोना महामारी के मामले में भारत स्टेज-3 में प्रवेश कर चुका है।

आनंद महिंद्रा ने यह भी कहा कि अपने एसोसिएट्स को वह कोरोना से जुड़े फंड में योगदान के लिए प्रेरित करेंगे और खुद भी अपनी 100 फीसदी सैलरी स्वेच्छा से कॉन्ट्रिब्यूट करेंगे। आने वाले महीनों में और योगदान की बात भी कही। आनंद महिंद्रा ने कहा कि आने वाले दिनों में कोरोना मरीजों की गिनती काफी तेजी से बढ़ सकती है, जिसकी वजह से मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर पर भारी दबाव पड़ सकता है। ऐसे में, अगले कुछ हफ्तों का लॉकडाउन मददगार साबित हो सकता है। ऐसा करने से मेडिकल केयर पर दबाव थोड़ा कम होगा।