सीआईआई : 42 फीसदी कंपनियों को आरबीआई के ब्याज दरों में बढ़ोतरी की उम्मीद


Image | Twitter/@FollowCII

नई दिल्ली| भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने रविवार को अपने एक सर्वेक्षण का हवाला देते हुए कहा कि भारत की 42 फीसदी कंपनियों को उम्मीद है कि भारतीय रिजर्व बैंक चालू वित्त वर्ष में फिर ब्याज दर बढ़ाएगा। सीआईआई ने यहां एक विज्ञप्ति में कहा कि जुलाई-सितंबर 2018 के दौरान करवाए गए सर्वेक्षण तिमाही बिजनेस कान्फिडेंस इंडेक्स में विभिन्न आकार वाली करीब 200 कंपनियों को शामिल किया गया।

सीआईआई ने कहा, “वर्तमान सर्वेक्षण में करीब 42 फीसदी कंपनियों का मानना है कि आरबीआई वित्त वर्ष 2018-19 में फिर ब्याज दरों में वृद्धि करेगा, जबकि पिछले सर्वेक्षण में ज्यादातर कंपनियों ने ब्याज दरों में कटौती या कोई बदलाव नहीं होने की उम्मीद जाहिर की थी।”

आरबीआई ने अपने पिछली दो द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में रेपो रेट में 50 आधार अंक की वृद्धि करके इसे 6.5 फीसदी कर दिया है। रेपो रेट अल्पावधि में केंद्रीय बैंक द्वारा वाणिज्यिक बैंकों को दिए जाने वाले कर्ज पर लगने वाली ब्याज दर है।

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति अगली नीति समीक्षा की घोषणा पांच अक्टूबर को करेगी।

सीसीआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि उपभोग और निवेश वृद्धि में सुधार की बदौलत व्यावसायिक गतिविधियों में सुधार निश्चित है।

–आईएएनएस