ग्राहक को 3 रुपये की बैग बेचने के चक्कर में BATA को 9000 रुपये चुकाने पड़ गये!


(PC : inshorts.com)

ग्राहक सुरक्षा फोरम ने जानी मानी कंपनी बाटा इंडिया लिमिटेड को सेवा में क्षति का दोषी मानकर ९ हजार रुपये का दंड चुकाने की आदेश दिया है। मामला कुछ ऐसा है कि चंडीगढ़ में बाटा के एक शो-रूम से ग्राह ने जूते खरीदे। बिलिंग काऊंटर पर उससे कैरीबेग यानि थैली के लिये ३ रुपये अतिरिक्त शुल्क की मांग की गई। इस पर ग्राहक ने ग्राहक सुरक्षा फोरम का दरवाजा खटखटाया।

रिपोर्ट के अनुसार शिकायतकर्ता का कहना था कि बाटा ने कैरीबेग पर भी शुल्क वसूला है, अर्थात कंपनी कैरीबैग भी अपनी ब्रांड के नाम पर बेचने का प्रयास कर रही है, जो सर्वथा अनुचित है। शिकायत कर्ता ने इस मामले में कंपनी के खिलाफ सेवा में क्षति का मामला दर्ज कराते हुए ३ रुपये वापस लौटाने की मांग रखी। बाटा कंपनी ने अपने बचाव में कहा कि उनकी ओर से सेवा में कोई क्षति नहीं हुई है।

ग्राहक सुरक्षा फोरम ने कहा कि यह बाटा कंपनी की जिम्मेदारी है कि वह सामान खरीदने वाले ग्राहक को पेपर बेग निःशुल्क प्रदान करे। इसके साथ ही फोरम ने बाटा को निर्देश दिया कि वह तमाम ग्राहकों को अब से पेपर बैग निःशुल्क देगी।

फोरम ने अपने आदेश में बाटा इंडिया को निर्देश दिया कि वे ग्राहक को बैग के ३ रुपये और साथ में इस केस के लिये खर्च की गई राशि १ हजार रुपये भी लौटाये। इसके अलावा शिकायत कर्ता ग्राहक को बैग न दिये जाने से उसे जो मानसिक यातना का सामना करना पड़ा उसके एवज में ३ हजार रुपये भी चुकाये। इसके अलावा फोरम ने राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग के लिगल एंड एकाऊंट में ५ हजार रुपये भी जमा कराने का आदेश दिया।