13वें दिन स्पेक्ट्रम नीलामी: 10800 करोड़ पर पहुंची बोलियां


नई दिल्ली। दूरसंचार स्पेक्ट्रम नीलामी के आज १३वें दिन बोलियां बढ़कर १,०८,००० करोड़ रुपए पर पहुंच गई। बिक्री के लिए पेश स्पेक्ट्रम में से करीब ८९ प्रतिशत रेडियो तरंगें दूरसंचार वंâपनियों को अस्थायी रूप से आबंटित किए गए हैं।
हालांकि आज गतिविधियां थोड़ी धीमी रही क्योंकि ३जी सेवा में उपयोग होने वाले ९०० मेगाहट्र्ज बैंड तथा २१०० मेगाहट्र्ज बैंड में किसी भी र्सिकल के लिए बोली नहीं देखी गई। छह दौर की नीलामी पूरी हुई। दूरसंचार वंâपनियां ८०० मेगाहट्र्ज तथा १८०० मेगाहट्र्ज बैंड के लिए बोलियां लगार्इं। इस बैंड का उपयोग ४जी सेवाओं के लिए किया जा सकता है। कल की नीलामी के बाद बोलियां बढ़कर १,०७,००० करोड़ रुपए पर पहुंच गई थी और करीब ८८ प्रतिशत स्पेक्ट्रम दूरसंचार वंâपनियों को अस्थायी रूप से आवंटित किया गया था। सरकार को २०१० में ३जी और बीडब्ल्यूए स्पेक्ट्रम की बिक्री से करीब १.०५ लाख करोड़ रुपए मिले थे। पिछले साल हुई नीलामी में सरकार को ६२,१६२ करोड़ रुपए मिले थे।
दूरसंचार विभाग के अनुसार, ८०वें दौर की नीलामी के बाद बोलीदाताओं ने १,०८,००० करोड़ रुपए की बोली लगाई। अधिकतर सेवा इलाकों के लिए आरक्षित मूल्य से अधिक पर बोली मिली है।