1 अप्रैल से दिल्ली में बीएस-3 मॉडल्स के टू व्हीलर की बिक्री पर संकट


– बजाज वी१५, सुजुकी एक्सेस, हयाते और रॉयल एनफील्ड की हिमालयन पर होगा असर
काहिरा। दिल्ली सरकार के पैâसले के बाद दिल्ली में १ अप्रैल से बीएस-४ वाले टू-व्हीलर मॉडल्स का रजिस्ट्रेशन ही होगा। सरकार के इस पैâसले से वंâपनियों के बीएस-३ मॉडल्स की बिक्री पर संकट मंडराने लगा है। दिल्ली में १ अप्रैल से बीएस-३ वाले टू-व्हीलर्स के नए मॉडल्स का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा। इस पैâसले से बजाज वी१५, सुजुकी एक्सेस और हयाते के अलावा रॉयल एनफील्ड की हिमालयन पर असर होगा।
गौरतलब है कि भारत में टू-व्हीलर के लिए बीएस-३ और पैसेंजर व्हीकल के लिए बीएस-३ और बीएस-४ नियम लागू हैं। १ अप्रैल २०१६ से सभी टू-व्हीलर मॉडल्स को बीएस-४ नियम मानना अनिवार्य होगा। वहीं मौजदू टू-व्हीलर मॉडल्स को १ अप्रैल २०१७ तक बीएस-४ में अपग्रेड करना जरूरी होगा। इस पैâसले पर ऑटो संगठन सियाम का कहना है कि बीएस-३ वाले पुराने मॉडल्स के रजिस्ट्रेशन ना होने पर वंâपनियों को नुकसान होगा। १ अप्रैल से बीएस-४ नियम लागू होगा जिसके बाद बीएस-३ मॉडल का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा, ऐसे में बीएस-४ के नोटिफिकेशन आने तक इंडस्ट्री ने बीएस-३ मॉडल के रजिस्ट्रेशन की मांग की है। बीएस-३ मॉडल के रजिस्ट्रेशन की अर्जी दिल्ली ट्रांसपोर्ट विभाग में दिसंबर से लंबित है।
गौरतलब है कि दिल्ली में टू-व्हीलर गाड़ियों का बाजार लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले साल दिल्ली में ३,७८,८६२ टू-व्हीलर्स गाड़ियां बिकी थी। बता दें कि दिल्ली में वंâपनियां ज्यादातर महंगे प्रोडक्ट्स बेचती हैं, ऐसे में बीएस-४ के नए नियम से वंâपनियों को नुकसान संभव है।