१ से कम हो सकती हैं गैस की कीमतें 


नई दिल्ली। सरकार ने हाल में ही गैस पूिंलग की नई व्यवस्था लाई है, इसके अलावा सरकार गैस की नई कीमतों पर भी काम कर रही है। साqब्सडी के सही वितरण के लिए सरकार संपन्न लोगों से एलपीजी साqब्सडी छोड़ने की अपील कर रही है। इन सब मुद्दों पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि गैस की नई कीमतों पर विचार जारी है और हर ६ महीने में गैस की कीमतों में संशोधन होगा। पेट्रोलियम मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नैचुरल गैस की नई कीमत घटकर ५.०२ डॉलर प्रति एमएमबीटीयू हो सकती है। पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि १ अप्रैल २०१५ से गैस की नई कीमत अक्टूबर २०१४ में तय किए गए फॉर्मूले और अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत पर निर्भर करेगा। १ अप्रैल से गैस की नई कीमत क्या होगी, फिलहाल ये कह पाना उचित नहीं है। विभाग के लोगों से अभी तक गैस की नई कीमत पर प्रस्ताव नहीं मिला है। एलपीजी साqब्सडी छोड़ने पर पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि सक्षम लोग एलपीजी साqब्सडी नहीं लें। पेट्रोलियम मंत्री को उम्मीद है कि प्रधानमंत्री की लोगों से की गई अपील का असर जरूर देखने को मिलेगा। एलपीजी साqब्सडी का जो पैसा बचेगा, वो विकास के कार्यों पर खर्च होगा।