सेवाकर की छूट सीमा बढ़ाने की तैयारी


नई दिल्ली। वेंâद्र सरकार छोटे कारोबारियों को जीएसटी और सेवा कर में राहत देने के लिए छूट सीमा बढ़ाने पर गंभीरता से विचार कर रही है। सूत्रों के अनुसार बजट सत्र में सरकार इसे लागू करने संशोधन लाने की तैयारी कर रही है।
नई व्यवस्था में ७५ लाख तक कारोबारी गिरने वाले व्यापारियों की जीएसटी से राहत देने की तैयारी है। वहीं सेवा कर की सीमा १० लाख से बढ़ाकर २५ लाख करने का प्रस्ताव है।
वेंâद्र सरकार वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी लागू होने से पहले ही परोक्ष कर संरचना को जीएसटी के अनुरूप बढ़ाने का प्रयास कर दिया है। इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाते हुए वेंâद्र सेवा कर से छूट की सीमा में वृद्धि करने पर विचार कर रही है। सेवा कर से छूट की मौजूदा सीमा दस लाख रुपये को बढ़ाकर सालाना २५ लाख रुपये की जा सकती है। इससे कारोबारियों और नव उद्यमियों को काफी राहत मिलेगी। इस आशय की घोषणा आम बजट में हो सकती है। सूत्रों के अनुसार इसी तरह जीएसटी के तहत सालान २५ लाख रुपये से कम के टर्न ओवर वाले कारोबारी को टैक्स की सीमा के बाहर रखने का प्रस्ताव है। अगर किसी कारोबारी का कारोबार इस सीमा से कम है। तो उसे जीएसटी के तहत पंजीकरण कराना अनिवार्य नहीं होगा।