साप्ताहिक समीक्षा – नये साल में नये शिखर पर पहुंचा शेयर बाजार


– सप्ताह में सेंसेक्स 97 और निफ्टी 28 अंक बढ़ा
मुंबई, (ईएमएस)। बीते सप्ताह वैश्विक बाजार में मिले सकारात्मक संकेत के बीच डॉलर के मुकाबले रुपये में रही तेजी के बीच स्थानीय स्तर पर निवेशकों द्वारा की गई लिबाली के चलते घरेलू शेयर बाजार नये साल के पहले सप्ताह में नये शिखर पर पहुंचकर बंद हुए। प्रमुख सूचकांक की तरह ही छोटी कंपनियों के शेयरों में आई खरीदारी के दम पर सप्ताह में बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप इंडेक्स अब तक के उच्चतम स्तर पर बंद हुए। कारोबारी सप्ताह की समाप्ति पर सेंसेक्स 97 अंकों की साप्ताहिक तेजी के साथ 34,154 पर बंद हुआ वहीं निफ्टी 28 अंकों की साप्ताहिक तेजी के साथ 10.559 पर बंद हुआ। मालूम हो कि दोनों प्रमुख सूचकांक अब तक की रिकार्ड ऊंचाई पर बंद हुए। वहीं, बीएसई का मिडकैप सूचकांक 248 अंकों की साप्ताहिक तेजी के साथ 18,070 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 474 अंकों साप्ताहिक तेजी के साथ 19,705 पर बंद हुआ।
कारोबारी सप्ताह के पहले दिन सोमवार को सेंसेक्स 244 अंकों की गिरावट के साथ 33,813 पर और निफ्टी 95 अंकों की गिरावट के साथ 10,436 पर बंद हुआ। मंगलवार को बाजार में मिला-जुला रुख रहा और सेंसेक्स सपाट स्तर पर रहा, जबकि निफ्टी 7 अंकों की तेजी दिखाई। बुधवार को सेंसेक्स ने जहां 19 अंकों की गिरावट देखी वहीं निफ्टी ने 1 अंक की तेजी दिखाई। गुरुवार को सेंसेक्स 176 और निफ्टी 62 अंक चढ़े वहीं सप्ताह की समाप्ति पर शुक्रवार को सेंसेक्स 184 अंकों की तेजी के साथ सप्ताह में 97 अंक चढ़कर 34,154 पर बंद हुआ वहीं निफ्टी 54.05 अंकों की तेजी के साथ सप्ताह में 28 अंक चढ़कर 10,559 पर बंद हुआ।
बीते सप्ताह सेंसेक्स में रिलायंस इंडस्ट्रीज, यस बैंक, एक्सिस बैंक, इंडसइंड बैंक, कोल इंडिया और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियों में तेजी रही जबकि एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, इंफोसिस, मारुति सुजुकी, हीरो मोटोकॉर्प और बजाज ऑटो जैसी बड़ी कंपनियों में गिरावट रही।
आर्थिक जानकारों का कहना है कि व्यापाक आर्थिक आंकड़ों के मोर्चे पर, मांग में तेजी और मुद्रास्फीति के दबाव में कमी के कारण देश के सेवा क्षेत्र में दिसंबर में तेजी दर्ज किए जाने के चलते सप्ताह में घरेलू बाजार में आशिंक तेजी दर्ज की गई। वहीं वैश्विक मोर्चे पर, चीन के विनिर्माण क्षेत्र में दिसंबर में हल्की गिरावट दर्ज की गई।