साप्ताहिक समीक्षा – एलटीसीटी और वैश्विक बिकवाली से धराशाई रहा बाजार


– सेंसेक्स में सप्ताह में 1006 अंकों की टूटन
– निफ्टी में 350 अंकों की साप्ताहिक गिरावट

मुंबई, (ईएमएस)। अमेरिकी बाजार में बांड यील्ड में वृद्धि के कारण दुनिया भर के निवेशक शेयरों से पैसा निकालकर बांड में लगाने में जुट गए हैं, जिससे एशियाई, अमेरिकी और यूरोपीय शेयर बाजारों में तेज गिरावट देखने को मिली। इसके साथ ही कच्चे तेल के दाम गिरने और डॉलर के मुकाबले रुपए में आई टूटन के साथ साथ स्थानीय स्तर पर आम बजट 2018-19 में प्रस्तावित दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) कर के कारण इस सप्ताह की समाप्ति पर शुक्रवार को इस सप्ताह सेंसेक्स 1061 अंकों की साप्ताहिक गिरावट के साथ 34,006 अंक पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी में 306 अंकों की साप्ताहिक गिरावट के साथ 10,455 पर बंद हुआ। प्रमुख सूचकांक के विपरीत इस सप्ताह बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 60 अंकों की साप्ताहिक तेजी दर्ज की गई और यह 16,635 पर बंद हुआ जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 325 अंकों की तेजी के साथ 18,173 पर बंद हुआ।
सोमवार को एलटीसीजी कर की घोषणा के कारण बाजार में तेज गिरावट आई और सेंसेक्स 310 अंकों की गिरावट के साथ 34,757.16 पर और निफ्टी 94.5 अंक उतरकर 10,667 पर बंद हुआ। मंगलवार को सेंसेक्स में 561 अंकों की और निफ्टी में 168 अंकों की भारी गिरावट देखने को मिली। बुधवार को सेंसेक्स ने 113 अंकों का गोता लगाया वहीं निफ्टी में 20 अंक की गिरावट दर्ज की गई। लगातार तीन दिनों की गिरावट के बाद गुरुवार को सेंसेक्स ने 330 अंकों की और निफ्टी ने 100 तेजी दिखाई हालांकि सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को सेंसेक्स 407 गिरकर कुल 1,061 अंकों की साप्ताहिक गिरावट के साथ 34,006 अंक पर बंद हुआ वहीं निफ्टी 122 अंक उतरकर कुल 306 अंकों की साप्ताहिक गिरावट के साथ 10,455 अंक पर बंद हुआ।
इस सप्ताह सेंसेक्स के यस बैंक, इंडसइंड बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, बजाज ऑटो, महिंद्रा एंड महिंद्रा, मारुति सुजुकी, टाटा मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प, टीसीएस, विप्रो और इंफोसिस के शेयरों में में गिरावट रही। वहीं सन फार्मा, डॉ. रेड्डी और टाटा स्टील के शेयरों में तेजी देखने को मिली।