लगातार छठे दिन बढ़कर बंद हुआ बाजार


– सैंसेक्स १८४ अंक बढ़कर २९,३२० पर बंद
– निफ्टी ६० अंक उछलकर ८,८६९ पर बंद
मुंबई । परदेसी शेयर बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के साथ साथ घरेलू स्तर पर महंगाई घटने के मद्देनजर रिजर्व बैंक के ब्याज दरों में कटौती करने तथा बजट में र्आिथक सुधारों को गति देने के उपाय की उम्मीद से हुई लिवाली के जोर पर आज शेयर बाजार लगातार छठे दिन मजबूती के साथ बंद हुए। टिकाऊ उपभोक्ता सामान, बिजली, मशीनरी एवं वाहन वंâपनियों के शेयरों में हुई खरीदारी के चलते बुधवार को कारोबार की समाप्ति पर बीएसई का सैंसेक्स १८४ अंक की तेजी के साथ २९,३२० अंक पर बंद हुआ जबकि एनएसई का निफ्टी ६० अंक बढकर ८,८६९ अंक पर रहा। बुधवार के कारोबार में बीएसई के मिडवैâप और स्माल वैâप में भी बढ़त दर्ज की गई। मिडवैâप ०.८४ प्रतिशत चढकर १०,८२८ अंक पर बंद हुआ जबकि स्माकलैप १.०४ प्रतिशत मजबूत होकर ११,३६४ अंक पर रहा।
बुधवार को बीएसई में कुल ३०२८ वंâपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से १६३४ फायदे में और १२८३ गिरावट पर रहे जबकि १११ में ाqस्थरता दर्ज की गई।
बुधवार को घरेलू बाजार ने सपाट शुरूात की। शुरूआती कारोबार में सैंसेक्स २९१३६ अंक के सपाट स्तर पर खुला थोडी देर बाद ही बिकवाली के दबाव में २९,१२७६ अंक के न्यूनतम स्तर तक लुढक गया। इसके बाद शुरू हुई लिवाली की बदौलत यह बढत दर्ज करने में कामयाब रहा। इसी तरह निफ्टी ८,८१२ अंक पर खुला। बिकवाली दबाब के चलते यह ८,८०९ अंक तक आ गया। लिवाली के जोर पर इसमें लगतार तेजी रही और कारोबारी के आखिरी घंटे में यह ८,८९४ अंक के उच्चतम स्तर को छूने में सफल रहा।
आर्थिक जानकारों का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में नरमी और यूनान की अर्थव्यवस्था को लेकर तनाव घटने के अलावा आम बजट को लेकर सकारात्मक अनुमानों से बाजार में तेजी का माहौल रहा। इसके अलावा, मुद्रास्फीति में नरमी को देखते हुए आरबीआई द्वारा दरों में कटौती किए जाने की उम्मीद से भी बाजार में तेजी दर्ज की गई।