भारत के आर्थिक विकास में गिरावट का दौर खत्मः जेटली 


– अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार होने की उम्मीद
नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि भारतीय र्आिथक विकास में गिरावट का दौर खत्म हो चुका है और चालू वित्त वर्ष की दूसरी तथा तीसरी तिमाही में भारी महंगाई में गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि वैश्विक हालात भी भारत के अनुवूâल हो गए हैं और सुधार की जारी प्रक्रिया के कारण अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार होने की उम्मीद है। वृहद र्आिथक संतुलन प्राप्त करने के लिए घरेलू नीतियां बनाई गई हंै। जेटली ने सामाजिक इंप्रâास्ट्रक्चर मानव संसाधन और विकाससमूह के प्रतिनिधियों के साथ यहां बजट पूर्व चर्चा में कहा कि सरकार ने समाज के उपेक्षित एवं कमजोर तबके के लिए जारी कार्यक्रमों के अतिरिक्त विशेष सामाजिक कार्यक्रम भी शुरू किए हैं। इन कार्यक्रमों में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) भी शामिल जो स्वच्छता और स्वास्थ्य मानकों में सुधार के उद्देश्य से शुरू किया गया है।
जेटली ने कहा कि प्रधानमंत्री जन धन योजना और रूपे डेबिट कार्ड से वित्तीय समावेशन को आधार मिलेगा और खाताधारकों का वित्तीय सशक्तिकरण होगा। उन्होंने कहा कि देश की ६३ प्रतिशत आबादी १५ से ५९ वर्ष आयु वर्ग की है और वे देश के लिए अपार संभावनाओं के द्वार हैं लेकिन यह सरकार के लिए बहुत बड़ी चुनौती भी है। उन्होंने कहा कि लाभों का हस्तांतरण तभी हो सकता है जब हमारी आबादी स्वस्थ शिक्षित और दक्ष होगी। इसके लिए सरकार सामाजिक बुनियादी सुविधाओं के विकास पर निवेश कर रही है। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने कौशल विकास पर विशेष ध्यान देने के साथ ही मेक इन इंडिया पर भी जोर दिया है ताकि रोजगार के अवसरों में सुधार हो और बड़े स्तर पर रोजगार के अवसर मिलें। उन्होंंने कहा कि कौशल विकास पर जोर देते हुए इसके लिए अलग से मंत्रालय स्थापित किया गया है।