ई-कॉमर्स कंपनियों पर केरल में 54करोड़ का जुर्माना


तिरुवनंतपुरम। केरल सरकार के वाणिज्य कर विभाग ने कुछ ई-कॉमर्स वंâपनियों व पोर्टलों पर ५४ करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। राज्य सरकार का कहना है कि ऐसी कुछ और वंâपनियों पर जुर्माना किया जाएगा।
विभाग ने पाया कि ई-कॉमर्स वंâपनियां केरल मूल्य संर्विधत कर अधिनियम २००३ तथा ऐसी ही कुछ और कर नियमों का उल्लंघन कर रही हैं।
गौरतलब है कि शुक्रवार को ाqफ्लपकार्ट, जबांग तथा अन्य दो वंâपनियों पर लगाया गया जुर्माना तो बस शुरुआत भर है। ये जुर्माना तो साल २०१२-१३ तथा २०१३-१४ के लिए है। ईबे तथा एमेजॉन जैसी बड़ी वंâपनियां भी मुकदमे की जद में आने जा रही हैं। कई और वंâपनियों को जल्द ही दंड भुगतना पड़ेगा।
सरकारी अधिकारी का कहना है कि हमने ऐसी सभी वंâपनियों को नोटिस भेज दिया है और सभी ने हमारे साथ सहयोग किया है। केरल ऐसा पहला राज्य है, जो इस तरह की व्यापक कार्रवाई को अंजाम दे रहा है। उन्होंने कहा, हमने पाया कि राज्य में ई-कॉमर्स लेनदेन में नाटकीय रूप से बढ़ोतरी हो रही है। हमारे अनुमान के मुताबिक, राज्य को हर साल एक हजार करोड़ रुपये की चपत लगी है और अगर इसका उपाय न किया गया, तो यह आंकड़ा बढ़ सकता है। वस्तु एवं सेवा कर को लागू करना इससे निजात पाने का एक उपाय है।
प्रदीप/ईएमएस/२५जनवरी/२०१५/