आरबीआई के रूख से लुढ़का बाजार


– सेंसेक्स १२२ अंक टूटकर २९,००० पर बंद
– निफ्टी ४१ अंक उतरकर ८,७५७ पर बंद
मुंबई। रिजर्व बैंक द्वारा मौद्रिक नीति की समीक्षा में नीतिगत दरों को जस का तस रखे जाने से बैंिंकग एवं रियल्टी समूहों में हुई भारी बिकवाली के चलते घरेलू शेयर बाजार लगातार तीसरे दिन गिरावट पर बंद हुआ। मंगलवार को कारोबार की समाप्ति पर सेंसेक्स १२२ अंक लुढककर २९,००० अंक पर बंद हुआ जबकि निफ्टी ४१ उतरकर ८, ७५७ अंक पर बंद हुआ। बीएसई के मिडवैâप और स्मॉलवैâप सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई। मिडवैâप ३१ अंकों की गिरावट के साथ १०,७६८ पर और स्मॉलवैâप ३० अंकों की गिरावट के साथ ११,४२७ पर बंद हुआ।
मंगलवार को घरेलू बाजार की शुरूआत तेजी के साथ हुई। सेंसेक्स ९५ अंकों की तेजी के साथ २९,२१७ पर खुला। दिन भर के कारोबार में सेंसेक्स ने २९,२५३ के ऊपरी और २८,९०० के निचले स्तर को छुआ। इसी तरह निफ्टी २६ अंकों की तेजी के साथ ८,८२३ पर खुला। निफ्टी ने दिन के कारोबार में ८,८३७ के ऊपरी और ८,७२६ के निचले स्तर को छुआ।
मंगलवार को आरबीआई ने प्रमुख दरें अपरिर्वितत रखी हैं। रीपो दर को ७.७५ फीसदी और रीवर्स रीपो दर को ६.७५ फीसदी पर अपरिर्वितत रखा गया है। हालांकि वेंâद्रीय बैंक ने सांविधिक तरलता अनुपात (एसएलआर) की दर ५० आधार अंक घटाकर २१.५ फीसदी कर दी है, जो ७ फरवरी से लागू होगी। स्टॉक एक्सचेंज के शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक विदेशी संस्थागत निवेशक बिकवाल रहे। उन्होंने सोमवार को भी ६३० करोड़ रुपये की इाqक्वटी की बिक्री की थी। बैंिंकग सूचकांक में सबसे अधिक २.१ फीसदी गिरावट रही। हेल्थकेयर, ऊजा४ और रियल्टी सूचकांकों में भी गिरावट रही। बीएसई के १२ में से सात सेक्टरों में तेजी दर्ज की गई। तेल एवं गैस, तेज खतप उपभोक्ता वस्तुएं, धातु, उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं और प्रौद्योगिकी के शेयरों में सर्वाधिक तेजी रही। वहीं बैंिंकग, रियल्टी, स्वास्थ्य सेवाएं, बिजली और वाहन सेक्टरों के शेयरों में गिरावट रही।