आरबीआई की रेपो रेट में गिरावट, कम होगी महंगाई दर


० अगले साल २ फीसदी महंगाई दर कम होने का दावा
नईदिल्ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने रेपो रेट की दर २५ बेसिस पॉइंट घटा दी है। इसी के साथ तत्काल प्रभाव से रेपो रेट ७.७५ फीसदी हो गई है। अब रिजर्व बैंक से अपेक्षाकृत रूप से कम दर पर पैसे उधार लिये जा सवेंâगे। बैंक ने वैâश रिजर्व रेशियो (सीआरआर) में कोई बदलाव नहीं किया है।
आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि अगले साल जनवरी तक महंगाई दर ६ फीसदी पर आ सकती है, जबकि फिलहाल यह करीब ८ फीसदी है। उन्होंने कहा कि देश पर बढ़ती मुद्रा स्फीति का दबाव अब कम हो रहा है और सितंबर के बाद से साqब्जयों और फलों के दाम घटे हैं, जिससे महंगाई की दर कम हुई है। अंतरराष्ट्रीय उत्पादों के दाम भी घटे हैं, खास तौर से कच्चे तेल के दाम घटने से महंगाई दर को काबू करने में मदद मिली है। राजन ने कहा कि सरकार राजकोषीय घाटा कम करने के लिए प्रतिबद्ध है और यह सकारात्मक बात है। उन्होंने कहा कि सितंबर २००९ के बाद पहली बार लघुअवधि और दीर्घावधि में महंगाई दर का अनुमान इकाई की संख्या में आ गया है।
० ये पड़ेगा असर
आरबीआई की रेपो रेट में कमी तेजी से विकास में सहयोगी हो सकती है। रेपो रेट घटने के बाद बैंकों से लोन की दरें कुछ हद तक कम होंगी, हालांकि यह कमी रेपो रेट में कमी के बराबर नहीं होगी। हालांकि हर बार यह फायदा हो, यह जरूरी नहीं है।