अगले माह होगी कोष प्रबंधकों की नियुक्ति! : ईपीएफओ


नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) अगले महीने तीन साल के लिए कोष प्रबंधकों की नियुक्ति कर सकता है इसके अलावा ईपीएफओ की पेंशन योजना के तहत आयुसीमा भी दो साल बढाकर ६० साल की जा सकती है। ईपीएफओ की शीर्ष संस्था वेंâद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की ११ मार्च को होने वाली बैठक में दोनों प्रस्तावों पर विचार किया जाएगा। आधिकारिक आदेश के अनुसार, सीबीटी की २०६वीं बैठक १९ फरवरी को होनी थी जिसे टाल दिया गया। अब यह बैठक ११ मार्च को होगी।
सीबीटी पेंशन व ईडीएलआई कार्यान्वयन समिति (पीईआईसी) की सिफारिशों पर भी विचार करेगा। इसमें ईपीएफओ की पेंशन योजना में चिकित्सा लाभ उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है। यदि यह निर्णय लिया जाता है तो इससे ईपीएफओ के ४६ लाख पेंशनधारकों को तुरंत लाभ मिलेगा। बैठक के लिये तय एजेंडा के अनुसार संपत्ति प्रबंधन वंâपनी आईसीआईसीआई सिक्युरिटीज प्राइमरी डीलरशिप, रिलायंस वैâपिटल एएमसी और एचएसबीसी एएमसी का नाम ईपीएफओ के भारी भरकम कोष को व्यवाqस्थत करने की बोली लगाने वालों में सबसे आगे है। जिन अन्य के नाम छांटे गये हैं उनमें यूटीआई एएमसी, आईसीआईसीआई प्रुडेंशियल और बिड़ला सनलाइफ एएमसी शामिल हैं। स्टेट बैंक ने भी अपनी बोली जमा कराई है, हालांकि सीबीटी उसे पहले ही नामित कर चुकी है। ईपीएफओ ६.५ लाख करोड़ रुपए का कोष व्यवाqस्थत करता है। मौजूदा कोष प्रबंधकों का कार्यकाल ३१ मार्च २०१५ को समाप्त हो रहा है। पांच करोड़ से अधिक लोग ईपीएफओ से जुड़े हैं। हर साल उसमें ७०,००० करोड़ रुपए से अधिक धन जमा होता है।