अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स से विदेश व्यापार बढ़ाएगा चीन


बीिंजग। लगातार नीचे आ रही आर्थिक ग्रोथ को रोकने और अपना विदेश व्यापार बढ़ाने के लिए चीन सक्षम और मजबूत अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स कारोबार पर ध्यान वेंâद्रीत करेगा। चीनी अर्थशास्त्रियों के मुताबिक यह एक उभरता हुआ क्षेत्र है और चीन में अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स उद्योग का २०१५ में ३० फीसदी से अधिक विस्तार हुआ है।
स्टेट काउंसिल का कहना है कि चीन अनेक अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स पायलट जोन बनाएगा। ये जोन उन शहरों में बनाए जाएंगे, जहां बेहतर अवसंरचना सुविधा, व्यापार और ई-कॉमर्स का मजबूत बाजार है। गत वर्ष मार्च में हांगझू में एक पायलट जोन बनाया गया था, जहां ई-कॉमर्स वंâपनी अली बाबा का मुख्यालय है।
स्टेट काउंसिल की कार्यकारी बैठक के बाद जारी एक बयान में कहा गया है कि ये जोन निवेश आर्किषत करेंगे, रोजगार पैदा करने में मदद करेंगे और विदेश व्यापार बढ़ाने तथा अर्थव्यवस्था में जान पूंâकने के लिए नए कारोबारी मॉडल को पनपने में मदद करेंगे। वाणिज्य मंत्रालय के एक अधिकारी वांग डोंगटांग ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स बाजार का २०१५ में चीन में ३० फीसदी से अधिक विस्तार हुआ है। इसने छोटी और मझोली वंâपनियों का निर्यात बढ़ाया है और रोजगार बढ़ाने में भी मदद की है।
मंत्रालय के मुताबिक, चीन में ५,००० से अधिक ई-कॉमर्स प्लेटफार्म के जरिए दो लाख से अधिक वंâपनियां अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स में लगी हुई हैं। वर्ष २०१५ की प्रथम छमाही में अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स आय ४२.८ फीसदी बढ़कर २,००० अरब युआन (३०४.७ अरब डॉलर) दर्ज की गई।