लापता सऊदी पत्रकार मामले के संदिग्धों के संबंध क्राउन प्रिंस से : रपट


(तस्वीर साभार - aljazeera.com)

वाशिंगटन। सऊदी पत्रकार जमाल खाशोगी के लापता होने के मामले में तुर्की द्वारा पहचाने गए संदिग्धों में से एक का संबंध क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से है।

न्यूयार्क टाइम्स की मंगलवार की एक रपट के अनुसार, तीन अन्य संदिग्ध प्रिंस के सुरक्षा मामलों से जुड़े हुए हैं और पांचवा संदिग्ध फोरेंसिक डॉक्टर है, जो सऊदी गृह मंत्रालय और मेडिकल प्रतिष्ठान में एक बड़े पद पर है।

रपट के अनुसार, ब्रिटिश कूटनीतिक रोस्टर के मुताबिक, एक संदिग्ध महर अब्दुलअजीज मुतरेब को 2007 में लंदन स्थित सऊदी दूतावास में राजदूत नियुक्त किया गया था। उसने क्राउन प्रिंस के साथ काफी यात्राएं की हैं।

टाइम्स के अनुसार, तीन अन्य संदिग्ध अब्दुलअजीज मोहम्मद अल हवसावी, थार घलेब अल-हरबी और मुहम्मद साद अलझारनी हैं। हवसावी सुरक्षा टीम का सदस्य है, जिसने क्राउन प्रिंस के साथ यात्राएं की हैं।

टाइम्स के अनुसार, अल-हराबी और अलझारनी की पहचान सऊदी रॉयल गार्ड के रूप में की गई है।

पांचवा संदिग्ध सलाह अल तुबेगी एक पोस्टमार्टम विशेषज्ञ है, जिसने ट्वीटर पर खुद की पहचान सऊदी साइंटिफिक काउंसिल ऑफ फोरेंसिक के प्रमुख के रूप में बताई है।

यह रपट राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उन दावों पर सवाल उठाती है, जिसमें उन्होंने कहा था कि इस हत्या को ‘दुष्ट हत्यारों’ ने अंजाम दिया है। वह इस हत्या में वाशिंगटन के मध्य पूर्व में मुख्य सहयोगी सऊदी अरब पर ऊंगली उठाने से परहेज कर रहे हैं।

ट्रंप ने कहा कि रियाद के साथ ‘निर्दोष साबित होने से पहले ही दोषी’ जैसा व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने साथ ही कहा कि क्राउन पिंस मोहम्मद बिन सलमान ने खाशोगी के बारे में किसी भी जानकारी से इंकार किया है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खाशोगी के लापता होने के मामले में सऊदी अरब पर आरोप लगाने की जल्दबाजी न करने के लिए सचेत किया है।

ट्रंप ने मीडिया से कहा कि रियाद के साथ ‘निर्दोष साबित होने से पहले ही दोषी’ जैसा व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने साथ ही कहा कि क्राउन प्र‌िंस मोहम्मद बिन सलमान ने खाशोगी के बारे में किसी भी जानकारी से इंकार किया है।

ट्रंप ने ट्वीट किया कि क्राउन प्रिंस ने उनसे फोन पर बातचीत की और ‘तुर्की स्थित वाणिज्यिक दूतावास में क्या हुआ, इस बारे में किसी भी जानकारी से इंकार किया।’

ट्रंप ने कहा, “उन्होंने मुझसे कहा कि इस संबंध में पहले ही एक संपूर्ण जांच शुरू की जा चुकी है और वह इसे तेजी से आगे बढ़ाएंगे। इसका जवाब जल्द मिलेगा।”

(Xinhua/He Canling/IANS)

बीबीसी के अनुसार, दोनों नेताओं ने फोन पर ऐसे समय बातचीत की है, जब अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो को संबंधों में उत्पन्न खटास को दूर करने के लिए वहां भेजा गया है। पॉम्पियो बुधवार को तुर्की जाएंगे।

बीबीसी के अनुसार, तुर्की के एक अनाम अधिकारी ने कहा कि इस्तांबुल में सऊदी दूतावास की तलाशी से इस बात के और सबूत मिले हैं कि सऊदी के आलोचक की वहां हत्या कर दी गई है।

वाशिंगटन पोस्ट के लिए कॉलम लिखने वाले और सऊदी नेतृत्व के कठोर आलोचक को दो अक्टूबर को तुर्की में सऊदी वाणिज्यदूतावास में प्रवेश करते देखा गया था।

सऊदी अरब ने हालांकि उनकी हत्या से इंकार किया है और शुरुआत में कहा था कि वह ‘सकुशल’ इमारत से चले गए थे। न्यूयॉर्क टाइम्स और सीएनएन ने अनाम सूत्रों के हवाले से सोमवार को एक रपट में कहा था कि ‘सऊदी अरब स्वीकारेगा कि खाशोगी की मौत एक पूछताछ का परिणाम थी, जोकि गलत थी।’

न्यूयॉर्क टाइम्स की रपट के अनुसार, खाशोगी के लापता होने के मामले में तुर्की के अधिकारियों द्वारा दिए गए 15 लोगों के नामों में से चार का संबंध क्राउन प्र‌िंस से है, जबकि एक अन्य देश के गृह मंत्रालय का बड़ा चेहरा है।

-आईएएनएस