लो अब फिर ‘साहिब’ नहीं रहे हाफिज!


  • भारत की आपत्ति के बाद यूएन ने ‘साहिब’ संबोधन हटाया

संयुक्त राष्ट्र। यूएन की सिक्योरिटी काउंसिल ने आतंकी हाफिज सईद के नाम में जिस ‘साहिब’ शब्द का प्रयोग किया था, उसे भाारत की तीखी प्रतिक्रिया के बाद हटा लिया गया है।क्यूइनलान ने बैन टेररिस्ट ऑर्गनाइजेशन लश्कर-ए-तैयबा और इसके फाउंडर हाफिज सईद के संबंध में जानकारी को लेकर जारी संदेश में सईद का जिक्र किया था। नए लेटर में साफ तौर पर पाकिस्तानी आतंकवादी का नाम हाफिज मोहम्मद सईद लिखा गया है। मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद के नाम से ‘साहिब’ शब्द हटाते हुए सोमवार को एक संशोधित पत्र ज ारी किया। कमेटी ने कहा है कि भारत की ओर से इस पर आपत्ति जताए जाने के बाद गलती पर खेद व्यक्त किया जाता है। अलकायदा प्रतिबंध समिति ने एक और पत्र जारी किया, जिसमें १७ दिसंबर के पत्र में हुई ‘गलती पर खेद’ जताया गया है। कमेटी के अध्यक्ष गैरी क्यूइनलान हैं, जो यूनाइटेड नेशंस में ऑस्ट्रेलिया के स्थायी प्रतिनिधि हैं।
गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र ने दिसंबर, २००८ में जमात-उद-दावा को आतंकवादी संगठन घोषित किया था, और सईद खुद भी संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादियों की सूची में शामिल है। लेकिन सईद पाकिस्तान में आजादी से घूमता है और अक्सर सार्वजनिक सभाओं को संबोधित करता है, जिनमें वह अक्सर भड़काऊ भाषण देता है। पाकिस्तान की ओर से भी आने वाले बयानों में उसे आतंकी मानने से इंकार कर दिया जाता है। भारत में पाक के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने तो एक बार यहां तक कि बयान दे डाला था कि सईद एक पाक नागरिक है और उसे आजाद घूमने का पूरा हक है।