रूस ने बनाया ‘प्रलय के दिन का हथियार’, अमेरिका की नींद उड़ी


नई दिल्ली (ईएमएस)। पेंटागन की एक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि रूस समुद्र के भीतर से मार करने वाली परमाणु मिसाइल का निर्माण कर रहा है। जिसे ‘स्टेटस- 6 सिस्टम’ कहा जाता है। इसकी ब्रांडिंग प्रलय के दिन का हथियार नाम से की गई है। रूस के इस हथियार से अमेरिका बेहद चिंतित हो उठा है। खबरों के मुताबिक अमेरिकी रक्षा विभाग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि रूस एक नई अंतरमहाद्वीपीय, परमाणु हथियारबंद, परमाणु संचालित और पानी के नीचे से मार करने वाली मिसाइल विकसित कर रहा है, इसे अंग्रेजी में ‘स्टेटस- 6 सिस्टम’ कहा जाता है। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक रुसी कार्यक्रम में एक ड्रोन जैसी डिवाइस शामिल की गई है, जो कि समुद्र के भीतर पानी में हजारों मील सफर करने में सक्षम है और अमेरिका पर प्रहार करने की भी क्षमता रखती है। इसकी जद में समुद्री तट समेत सेना के ठिकाने और शहर आते हैं।
इस मिसाइस को दागने पर बड़े पैमाने पर रेडियोधर्मी प्रदूषण फैलता है। अमेरिकी रक्षा विभाग ने अपनी परमाणु समीक्षा में संयुक्त राज्य और उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) को समकालीन भू-राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के लिए मुख्य खतरा माना है। रिपोर्ट में कहा गया है कि रक्षा खुफिया एजेंसी वर्तमान में अनुमान लगाती है कि रूस में 2000 ‘गैर-रणनीतिक’ परमाणु हथियारों का भंडार है, जिसमें शॉर्ट-रेंज बैलिस्टिक मिसाइल, गुरुत्वाकर्षण बम और पनडुब्बी को उड़ा देनेवाली बारूद शामिल हैं। इन्हें मध्यम श्रेणी के बम बरसाने वाले विमानों से ले जाया जा सकता है।