मुशर्रफ की हत्या की कोशिश करने वाले तकनीशियन को फांसी


इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ की हत्या की कोशिश में दोषी पाए गए वायुसेना (पीएएफ) के पूर्व कनिष्ठ तकनीशियन को बुधवार को फांसी दे दी गई है। सूत्रों के अनुसार, नियाम मोहम्मद को पेशावर वेंâद्रीय कारा में फांसी दे दी गई है।
बताया गया है कि २००३ में रावलिंपडी में मुशर्रफ की हत्या की कोशिश करने के मामले में नियाम को दोषी ठहराया गया था।नियाम खैबर पख्तूनख्वा के स्वाबी जिले का निवासी था। उसे हरिपुर वेंâद्रीय कारा में मंगलवार तक रखा गया था, जिसके बाद उसे पेशावर वेंâद्रीय कारा में हेलीकॉप्टर से लाया गया था।इससे पहले प्रशासन ने जेल के बाहर आतंकवादी खतरे के बीच सैनिकों और पुलिस को तैनात कर दिया गया था। जेल शेर शाह सूरी रोड के किनारे ाqस्थत है, जिस पर मंगलवार रात आवाजाही बंद कर दी गई थी।
उल्लेखनीय है कि मुशर्रफ की हत्या की कोशिश रावलपिडी के झांडा चिची पुल के नजदीक १४ दिसंबर २००३ को की गई थी, जिसमें पीएएफ के छह कर्मचारियों को ३ अक्टूबर २००५ को दोषी पाया गया था। उन्हें २० महीने तक हिरासत में रखा गया था।इस मामले में १९ दिसंबर से अब तक पूर्व कनिष्ठ तकनीशियन अदनान राशिद, पूर्व मुख्य तकनीशियन खालिद महमूद, पूर्व वरिष्ठ तकनीशियन करम दीन और पूर्व कार्पोरल नवाजिश को फांसी दी जा चुकी है। हालांकि, छठे दोषी नसरुल्ला को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।