पाक सेना की नापाक हरकतों की तहरीक-ए-तालिबान ने खोली पोल


कश्मीर में चल रहे छद्मयुद्ध की तालीबानी वीडियो जारी
पेशावर। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) कमांडर अदनान रशीद ने एक वीडियो जारी कर कश्मीर घाटी में जारी पाक प्रायोजित आतंकवाद और छद्म युद्ध का खुलासा किया है। वीडियो में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने साफ आरोप लगाया है कि कश्मीर में कत्लेआम के लिए पाकिस्तानी सेना ही आतंकियों को भेजती है। उसने कश्मीर की तथाकथित आजादी और भारत के खिलाफ छद्म युद्ध के लिए घाटी में मुजाहिदीनों का इस्तेमाल किया। आरोप लगाया कि पाक सेना ने तथाकथित आजादी और जिहाद के नाम पर युवाओं को भ्रमित किया। तालिबान का कमांडर अदनान रशीद पूर्व में पाकिस्तानी एयरफोर्स का अधिकारी रहा है।
पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ पर हमले के आरोप में बंदी रशीद वर्ष २०१२ में जेल से फरार होकर तालिबान में शामिल हो गया।पाकिस्तानी सेना द्वारा कश्मीर और अफगानिस्तान में इन्हें इस्तेमाल करने के बावजूद मुजाहिदीनों पर हमले कर रही है। अपने वीडियो संदेश में रशीद ने पाकिस्तानी सैनिकों को दुनिया का सबसे मूर्ख प्राणी करार दिया।उसने सेना के जवानों को टीटीपी में शामिल होने का आह्वान किया कि वे और उन्हें आम माफी का विश्वास दिलाया।पाक सेना के जवानों को संबोधित वीडियो में आतंकी कमांडर का कहना था, ‘तुम लोगों को याद होगा जब हजारों पाकिस्तानी युवाओं ने भारतीय कश्मीर और अफगानिस्तान में छद्म युद्ध लड़ा। लेकिन कश्मीर में हमारे योगदान को भुला पाकिस्तानी सेना ने हजारों बलूच युवाओं को मार दिया। पाक सेना अहसान फरामोश है।’ वीडियो को टीटीपी की मीडिया िंवग उमर मीडिया ने जारी किया है। चेतावनी भरे लहजे में उसने कहा, ‘तुम सबको हमारी बात तब याद आएगी जब मुल्क के आधे हिस्से पर भारत का कब्जा हो जाएगा।’ पाकिस्तानी सैन्य नेतृत्व पर जिहाद के नाम पर गद्दारी करने का आरोप लगाते हुए रशीद ने कहा, ‘तुम लोगों (जनरल वगैरह) ने छद्म युद्ध के नाम पर खूब डॉलर कमाए और जिहाद के नाम देश यानी पाकिस्तान को ठगा।’
बकौल तालिबान कमांडर, ‘तथाकथित आजादी के नाम पर तुम्ने कश्मीर में कत्लेआम के लिए जिस तरह से युवाओं को हथियार के रूप में दुरूपयोग किया उसे आम मुाqस्लम भूला नहीं है।अपने १५ मिनट के वीडियो में रशीद ने पाक सेना के अफसरों को ब्राह्मण और जवानों को शूद्र की संज्ञा दी है। तालिबान कमांडर ने १९७१ के बांग्लादेश की आजादी के जंग का उल्लेख किया है। आरोप लगाया है कि उस लड़ाई में पाकिस्तानी सैनिकों ने लाखों मुसलमानों को मार दिया और अपनी मुाqस्लम बहनों के साथ दुष्कर्म किया। उसने कहा कि, ‘कबायली इलाके के लोगों ने भारत के साथ १९४८ की जंग को पाकिस्तान की ओर से लड़ा और कश्मीर के एक हिस्से पर कब्जा कर लिया।