टूटे दांत की वजह से दर्द झेल रहे आवारा कुत्ते की डॉक्टर ने कर दी रूट कनैल सर्जरी


टूटे दांत के दर्द की वजह से इधर-उधर भटक रहे एक आवारा कुत्ते को दर्द से निजात दिलाने के लिए डॉक्टर ने कुत्ते की रूट कनाल सर्जरी कर दी।
Photo/myupchar

नागपुर। नागपुर में टूटे दांत के दर्द की वजह से इधर-उधर भटक रहे एक आवारा कुत्ते को देख शहर के डेंटिस्ट का दिल पसीज गया। कुत्ते को दर्द से निजात दिलाने के लिए डॉक्टर ने कुत्ते की रूट कनाल सर्जरी कर दी। गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज के पूर्व छात्र एवं प्राइवेट प्रैक्टिशनर डॉक्टर रोशन सखरकार में यह सर्जरी 1 नवंबर को की। बता दें कि डॉक्टर सखरकार करीब 30 से अधिक आवारा कुत्तों को रोज खाना खिलाते एवं उनकी हर हरकत पर बारीकी से नजर भी रखते हैं। उन्होंने बताया कि वह कुत्ता दांत टूटने की वजह से काफी आक्रामक हो गया था। उसे रूट कैनाल ट्रीटमेंट की आवश्यकता थी।

डॉक्टर ने बताया कि सर्जरी के बाद उसे निगरानी में रखा गया है एवं अब वह शांत दिख रहा है। दर्द से पीड़ित कुत्ते की सर्जरी पशु चिकित्सक आशीष होले की छत्रपति स्क्वेयर स्थित क्लीनिक में की गई। सर्जरी करने के लिए इस दौरान डॉक्टर स्वप्निल नागमोते भी मौजूद रहे। डॉक्टर सखरकार ने बताया कि जानवरों का रूट कैनाल ट्रीटमेंट असामान्य नहीं है, परंतु कई डेंटिस्ट्स इसके बारे में अच्छी तरह से जानते नहीं हैं। इंसान और जानवरों की सर्जरी कुछ बदलावों के इतर एक जैसी है।

सखरकार ने बताया कि चबाने, खाने, खुद को बचाने और हमला करने के लिए दांतों का इस्तेमाल करने वाले जानवरों के लिए दांत टूटना बहुत दर्दनाक होता हैं। जानवरों में दर्द का अंदाजा उनके व्यवहार में बदलाव और गुस्से से लगाया जाता है। पशु चिकित्सक बेहद गंभीर मामलों में ही सर्जरी करते हैं, क्योंकि यह दर्द से जूझ रहे जानवर को अक्षम भी कर सकता है। आगे बताते हुए डॉक्टर सखरकार ने बताया कि कुत्ते को पकड़कर ऑपरेशन टेबल तक ले जाना काफी कठिन होता है। इनमें बेहोश करने वाली दवा का असर भी कुछ देर तक ही होता है, जिसके कारण जल्द ही सर्जरी करनी पड़ती है। डेंटिस्ट एवं वन्य जीव संरक्षण करता डॉक्टर सरिता सुब्रमण्यम ने दावा करते हुए कहा कि सरकार ऐसे पहले सर्जन है, जिन्होंने आवारा पशुओं का रूट कनाल सर्जरी की है। इतना ही नहीं डॉक्टर सरिता ने सखरकार के कार्य की जमकर तारीफ भी की।

– ईएमएस