अब कंपनी देगी स्मोकिंग ना करने वाले कर्मचारियों को ज्यादा छुट्टियां


स्मोकिंग ना करने वालों को स्मोकिंग करने वालों की तुलना में ज्यादा छुट्टियां मिलेंगी, तो शायद अधिकतर एम्पलाई स्मोकिंग छोड़ दे।
Photo/Twitter

नई दिल्ली। यदि सब जगह यह नियम लागू हो जाए कि स्मोकिंग ना करने वालों को स्मोकिंग करने वालों की तुलना में ज्यादा छुट्टियां मिलेंगी, तो शायद अधिकतर एम्पलाई स्मोकिंग छोड़ दे। पढ़ने में यह खबर थोड़ी अजीब जरूर लगेगी, परंतु यह सच है। दरअसल जापान की एक कंपनी ने अपने नए नियम के अनुसार स्मोकिंग छोड़ने वाले कर्मचारियों को स्मोक करने वालों की तुलना में अधिक छुट्टियां देने का ऐलान किया है। मार्केटिंग कंपनी की तरफ से यह कदम कर्मचारियों को ज्यादा हेल्दी लाइफ़स्टाइल के प्रति प्रेरित करने के लिए उठाया गया है। पिलाल इंक नामक मार्केटिंग फर्म अपने ऐसे कर्मचारियों को हर साल 6 छुट्टियां ज्यादा देंगी, जो स्मोकिंग नहीं करते या स्मोकिंग छोड़ने का फैसला करते हैं।

दरअसल कंपनी में स्मोकिंग ना करने वाले एक कर्मचारी ने शिकायत की थी, कि धूम्रपान करने वाले उससे ज्यादा ब्रेक लेते हैं और इससे कंपनी की प्रोडक्टिविटी प्रभावित होती है। अपनी शिकायत में उसने यह भी कहा कि ऑफिस 29वें फ्लोर पर है और स्मोकिंग रूम बेसमेंट में स्थित है। जिसके बाद कंपनी ने अनुमान लगाया कि एक कर्मचारी रोजाना स्मोक ब्रेक में लगभग 15 मिनट का समय लगाता है। ऐसे में पूरे साल में काफी समय सिगरेट ब्रेक के लिए जाता है। अनुमान के बाद ही कंपनी ने स्मोकिंग ना करने वाले कर्मचारियों के लिए यह घोषणा की। ऐसा इसलिए किया कि नॉनस्मोकर्स कर्मचारियों के टाइम को मैनेज किया जा सके। जापान की इस कंपनी में लगभग 35 फ़ीसदी कर्मचारी धूम्रपान करते हैं, जिनमें से 4 कर्मचारियों ने घोषणा के बाद धूम्रपान छोड़ने का फैसला कर लिया। गौरतलब है कि स्मोकिंग कल्चर के लिए पहचाना जाने वाला देश जापान में लगभग 18% जापानी स्मोकिंग करते हैं। आंकड़ों के मुताबिक हर साल जापान में 1.3 लाख लोगों की मौत स्मोकिंग से होने वाली बीमारियों की वजह से होती है। यहां की सरकार ने भी स्मोकिंग की रोकथाम के लिए कई उपाय किए हैं। स्मोकिंग की समस्या भारत में भी दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। ऐसे में अगर देश की कंपनी भी इस तरह की घोषणा कर्मचारियों के हित में करती है, तो इससे देश में धूम्रपान करने वालों की संख्या घट सकती है।

– ईएमएस