पीएनबी महाघोटाले पर साल भर पहले ही छप गई थी किताब


नई दिल्ली (ईएमएस)। देश के दूसरे सबसे बड़े बैंक पंजाब नेशनल बैंक को 11400 करोड़ का चूना लगा दिया। इस महाघोटाले की कहानी एक वर्ष पहले ही लिखी जा चुकी थी । एक किताब में घोटाले का खुलासा किया गया है व नीरव मोदी के नाम का जिक्र भी है। पीएनबी का महाघोटाला एक उपन्यास से बिल्कुल मिलता-जुलता है। एक वर्ष पहले आए लेखक रवि सुब्रमण्यन के उपन्यास ‘इन द नेम ऑफ गॉड’ ने यह साबित किया है कि काल्पनिकता सच से बिल्कुल अलग नहीं है।

किताब का मुख्य नीरव चोकसी
किताब में जिस बैंक घोटाले की कहानी को बयां किया गया, उसके मुख्य भूमिका का नाम नीरव चोकसी है। अब इसे संयोग कहें या कुछ व क्योंकि, सच में हुए पीएनबी घोटाले के दो मास्टरमाइंड नीरव मोदी व मेहुल चोकसी ही हैं। रवि सुब्रमण्यन की किताब में जिस भूमिका का जिक्र किया गया है वह एक ज्वैलर है व वह भी अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए बैंक का प्रयोग करता है। सच में जिस तरह नीरव मोदी ने बैंक से गड़बड़ी करके इतना बड़ा घोटाला किया वैसा ही कहानी में भी बताया गया है। सच में भी नीरव मोदी हीरा कारोबारी ही है।
बैंक की गड़बड़ी पर लिखी रवि सुब्रमण्यन की किताब में मुख्य भूमिका का नाम नीरव चोकसी दिया है। कहानी में नीरव चोकसी एक हीरा कारोबारी है, जो अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए बैंक में गड़बड़ी करता था। गलत तरीके से बैंक से पैसे जुटाता था व आखिरकार पैसा लेकर फरार हो जाता है। कहानी में भूमिका की पहुंच को बॉलीवुड व हॉलीवुड तक बताया गया है। मालूम हो कि सच में भी पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव मोदी हीरा कारोबारी है व उसने भी बैंक में गड़बड़ी के जरिए घोटाले को अंजाम दिया। साथ ही नीरव मोदी की पहुंच भी बॉलीवुड से हॉलीवुड तक है।