गाइआ टेलीस्कोप से नहीं दिख रही आकाश गंगा


लंदन। यूरोपियन स्पेस एजेंसी के गाइआ टेलीस्कोप के फाइबर ढ़ीले हो गये है जिसकी वजह से इसके बड़े वैâमरें में अत्यधिक प्रकाश का विसरण हो रहा है एवं आकाश गंगा के मापन में कठिनाई हो रही है। टेलीस्कोप गाइआ की लांचिंग दिसम्बर २०१३ में हमारी आकाश गंगा में १.५ गीगा पिक्सल वैâमरा का उपयोग करके करोड़ों तारों की तस्वीरें प्राप्त करने एवं अप्रत्याशित विवरणों का मापन करने के लिए की गयी थी। ईएसए ने पाया कि टेलीस्कोप में अत्यधिक प्रकाश प्रवेश कर रहा है। जमीनी परीक्षणों में निश्चय किया गया कि गाइआ के १०मीटर चौड़े सनशील्ड के किनारे के आसपास अत्यधिक प्रकाश फाइबर ढ़ीला होने के कारण हो सकता है। सनशील्ड की डिजाइन टैलीस्कोप को सूर्य के प्रकाश से बचाने के लिए की गयी थी। गाइआ साइंस टीम के सदस्य एंथोनी ब्राडन के मुताबिक बिखरा हुआ प्रकाश आकाशगंगा के सबसे चमकीले तारों के मापन को प्रभावित नहीं करना चाहिए ब्राडन ने बताया कि गाइआ द्वारा चार अरब से अधिक मापन पहले ही किए जा चुके है।