अंतरिक्ष में मिले हैंडशेक से खुलेंगे ब्रम्हाण्ड उत्पत्ति के रहस्य


वािंशगटन। जीव विज्ञान के लिए अनिवार्य जटिल कार्बनिक अणु पहली बार अंतरिक्ष में तारों के बीच देखा गया है। इस खोज से ब्रह्मांड में जीवन की उत्पत्ति के रहस्यो को समझने में मदद मिलेगी। इंसान के हाथों के जोड़े की तरह कुछ कार्बनिक अणु अपना ही प्रतििंबब जान पड़ते हैं। यह विशेष रासायनिक गुण होता है, जिसे काइरेलिटी कहते हैं। ये पृथ्वी पर पाए जाने वाले उल्कािंपडों में और सौरमंडल में पाए जाने वाले धूमकेतुओं में पाए जाते हैं। बहरहाल, अंतरिक्ष में इतनी अधिक गहराई पर इससे पहले ऐसे किसी अणु की पहचान अब तक नहीं की गई। वैज्ञानिकों ने बेहद संवेदनशील रेडियो दूरबीनों का इस्तेमाल करके अंतरातारकीय अंतरिक्ष में पहला जटिल कार्बनिक काइरल अणु खोजा है। इस अणु का नाम प्रोपीलीन ऑक्साइड है और यह हमारे तारामंडल के वेंâद्र में मिला था। अमेरिका में नेशनल रेडियो एस्ट्रोनॉमी ऑब्जर्वेटरी के पोस्ट डॉक्टरल पैâलो बेट्र मैक्गेयर ने कहा, कि अंतरतारकीय अंतरिक्ष में पाया गया यह ऐसा पहला अणु है, जिसमें काइरेलिटी का गुण है। यह प्रीबायोटिक अणुओं के निर्माण को और जीवन की उत्पत्ति पर पड़ सकने वाले इनके प्रभाव को समझने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम है। यह अनुसंधान जर्नल ‘साइंस’ में प्रकाशित हुआ।